*गर्व कीजिए कि आप भारत में जन्मे हैं।*
*बात है कोरोना वैक्सीन की।*
स्मरण कीजिए, छह महिने पहले "दी ऐंड न्यूज" पोर्टल दो अलग-अलग आलेखों में चेताया था। 'देश विरोधी तत्व वैक्सीन पर अधमतम राजनीति करेंगे'। यह भी कहा था कि *भारत समस्त संसार में सबसे कम मृत्यु दर
@khusboomishra1
👇
वाले देश के रूप में उभरेगा और यहां के फार्मा सैक्टर का लोहा पूरा संसार मानेगा।
तो देखिए यह सब हो गया है।
भारत की सबसे आगे निकलने की हठ दूर से ही दिखाई दे रही थी।*
यह अपेक्षित था कि अपनी वैक्सीन आएगी तो विदेशी शक्तियों के भाडे पर पल रहे समूह अपना आपा खो बैठेंगे।
@ITI09604807
👇
अपने देश में बनी वैक्सीन को विश्व व्यापी पहचान और स्वीकृति कैसे मिल गयी?
भारत पूरी तरह स्वदेशी वैक्सीन बनाने वाला विश्व में दूसरा देश कैसे बन गया ??
भारत की वैक्सीन का लेवल 3 का ट्रायल संसार में सबसे बड़े सैंपल साइज़ में कैसे हो रहा है ???
यह वैक्सीन 100% स्वदेशी होकर भी किसी
👇
भी side effect से मुक्त कैसे है जबकि बाकी सभी में घोषित रूप से side effects हैं???
भारतीय वैक्सीन को भला room temperature पर कैसे stable रखा जा सकता है जबकि अमेरिकी व यूरोप वाली वैक्सीन के लिए -70 डिग्री का तापमान चाहिए। हजारों रुपए देने पड़ते वो अलग?.....
@Khushir78516211
👇
ये तो export करने की तैयारी हो रही है। अरबों रुपए खर्च करना तो दूर, आमदनी का जरिया बना दिया!! बहुत ना इंसाफी हुई ये तो!
अब हम *बहुराष्ट्रीय कंपनी फाइजर की 5000 रुपए वाली वैक्सीन नहीं खरीदेंगे* । यह बड़ा दर्द है। दर्द यह भी है कि *भारत में बनी कोविशील्ड और कोवैक्सीन सस्ती
👇
कैसे मिल गई* । और भारत सरकार निशुल्क कैसे लगा रही है, 135 करोड़ भारतीयों को ???
कहते थे कि दुनिया वैक्सीन बना रही है और हम थाली बजा रहे हैं, ताली पीट रहे हैं, दिए जला रहे हैं। कहते थे ना ??
*क्या आप विश्वास करेंगे कि भारत बायोटैक/ ICMR द्वारा हैदराबाद में बनी यह वैक्सीन लगभग
👇
150 देश हमसे मांग रहे हैं ??*
इससे मिलने वाली विदेशी मुद्रा की कल्पना कर सकते हैं आप???
भारत भी तैयार है।
कोविशील्ड को ब्रिटेन के आक्सफोर्ड और एस्ट्राजेनिका ने विकसित किया है।इसका पूरा निर्माण संसार की सबसे बड़ी facility (Adar Poonawala, S/O Cyrus Poonawala, founder of Serum
👇
Institute of India) पुणे में भारतीय कम्पनी द्वारा किया गया हैं । लेकिन हैदराबाद में बनीं "कोवैक्सीन" पूर्ण स्वदेशी है ।*
भारत बायोटेक वाली वैक्सीन के 3rd स्टेज के ट्रायल्स भारत में ही नहीं , 25 देशों में चल रहे हैं, लाखों लोगों में, इस शर्त पर कि वैक्सीन लगवाने वाले
👇
संपूर्ण डाटा उपलब्ध कराने में सहयोग करेंगे। *सैंपल साइज़ की कल्पना कीजिए।*
*बात अभी बाकी है।*
*चीन को जो आघात भारत के वीर सपूतों ने डोकलाम और गलवान में दिया है उससे भी बड़ा तूफान इस वैक्सीन ने खड़ा कर दिया है। वहां(China में ) करोड़ों वैक्सीन बनी पड़ी है कोई खरीदार ही नहीं।
👇
*यह अपने देश के वैज्ञानिकों पर गर्व करने का विषय है। अवसर भी है। राजनीतिक ईर्ष्या देशोन्नति से अधिक महत्वपूर्ण नहीं हो सकती है।*
*🚩जय श्रीराम🙏*

• • •

Missing some Tweet in this thread? You can try to force a refresh
 

Keep Current with शम्भू बनारस वाला #पंडित_एक_देशभक्त(योगीजी का भक्त)

शम्भू बनारस वाला #पंडित_एक_देशभक्त(योगीजी का भक्त) Profile picture

Stay in touch and get notified when new unrolls are available from this author!

Read all threads

This Thread may be Removed Anytime!

PDF

Twitter may remove this content at anytime! Save it as PDF for later use!

Try unrolling a thread yourself!

how to unroll video
  1. Follow @ThreadReaderApp to mention us!

  2. From a Twitter thread mention us with a keyword "unroll"
@threadreaderapp unroll

Practice here first or read more on our help page!

More from @Banarsi_Pandit

13 Jan
क्या आप इस महापुरुष को जानते हैं....
उन्हें किसी भी दिन शहर के अन्नपूर्णा होटल में पच्चीस रुपए की थाली का खाना खाते हुए देखा जा सकता है। इसके साथ ही वह आज भी बीएचयू में अपनी चिकित्सा सेवा निःशुल्क जारी रखे हुए हैं। डॉ लहरी को आज भी एक हाथ में बैग, दूसरे में काली छतरी लिए हुए
👇
पैदल घर या बीएचयू हास्पिटल की ओर जाते हुए देखा जा सकता है.
लोगों का निःशुल्क इलाज करने वाले बीएचयू के जाने-माने कार्डियोथोरेसिक सर्जन पद्म श्री डॉ. टी.के. लहरी (डॉ तपन कुमार लहरी) ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनके घर पर जाकर मिलने से इनकार कर दिया है. योगी
👇
को वाराणसी की जिन प्रमुख हस्तियों से मुलाकात करनी थी, उनमें एक नाम डॉ टीके लहरी का भी था। मुलाकात कराने के लिए अपने घर पहुंचने वाले अफसरों से डॉ लहरी ने कहा कि मुख्यमंत्री को मिलना है तो वह मेरे ओपीडी में मिलें.
इसके बाद उनसे मुलाकात का सीएम का कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया।
👇
Read 14 tweets
13 Jan
भारत के बारे में रोचक तथ्य
1-भारत ने अपने 10 हजार साल के इतिहास में किसी देश पर पहले हमला नही किया, जबकि यह हथियारों का सबसे बड़ा आयातक है।
2-भारत अकेला ऐसा देश है जहाँ किसी भी चीज पर उसका M.R.P लिखा होता है।
3-भारतीय रेल, कर्मचारियों की संख्या के हिसाब से संसार की सबसे बड़ी
👇
संस्था है जिसमें लगभग 16 लाख से भी अधिक कर्मचारी काम करते है, जो कई देशों की जनसंख्या से भी ज्यादा है।
4-‘श्रीकांत जिचकार’ भारत के सबसे पढ़े लिखे व्यक्ति है। इनके पास IAS, IPS, वकील, डॉक्टर समेत 20 डिग्री थी, 25 साल की उम्र में ये MLA भी बने। 2004 में इनका देहांत हो गया।
👇
कमल का फूल भारत के साथ-साथ वियतनाम का भी राष्ट्रीय फूल है।
भारत में लगने वाले कुम्भ के मेले में 10 करोड़ से अधिक लोग आए थे, जो एक जगह एकत्रित हुई आज तक की सबसे अधिक जनसंख्या है। यह भीड़ इतनी ज्यादा थी कि अंतरिक्ष से भी दिखाई दे रही थी।
भारत के केरल राज्य के ‘Kodinhi’ गांव में
👇
Read 9 tweets
13 Jan
दिल्ली पर बड़ा खतरा मंडराने लगा है
कितनी भी बातचीत कर लो
कितना भी समझा लो,इनमें नकली किसान नेताओं की जायज़ नाज़ायज़ मांगे भी मान लो।
फिर भी हिंसा तो हो कर ही रहेगी,सारी तैयारी और फंडिंग हिंसा के लिए हो रही है।
दिल्ली दंगे की तरह गोली भी खुद ही चलाएंगे और जान

@khusboomishra1
👇
भी अपनों की लेंगे, विपक्ष को किसी भी कीमत पर मोदीजी को किसान विरोधी सिद्ध करना है। इसलिए एक बार फिर से ये सारे गिद्ध इकट्ठे हैं, इन्हें लाशें गिरने का इंतज़ार है।
*इनमें कांग्रेस है, आप है, अकाली दल है, वामपंथी है, योगेंद्र यादव है, JNU गैंग है, अमानतुल्ला खान है,
👇
खालिस्तानी हैं, रावण है, पप्पू यादव है, शहीनबाग वाली दिहाड़ी की दादी है, इनमें बहुत से सिखों का वेश धरे मुसलमान हैं,* हाथरस वाली नक्सली भाभी है तलवारें है डंडे हैं बंदूकें भी होंगी अभी पता नही है किरपाण है बरछा है
*इनके पास मोटे गद्दे हैं, झक सफ़ेद रजाइयां और ढेरों
👇
Read 14 tweets
12 Jan
एक पण्डित की कलम✍ से👇👇

राजपूतों को 'कायर' बताने की 'मुहिम' का शिकार हैं तो यह पढ़िए
पद्मावती फ़िल्म की आड़ में राजपूत राजाओं पर प्रश्न खड़ा करने और उन्हें कायर कहने वाले बुद्धिजीवी कुकुरमुत्ते की तरह उग आए हैं।
पिछले कुछ दिनों से देख रहा हूँ, पद्मावती

@khusboomishra1
फ़िल्म की आड़ में राजपूत राजाओं पर प्रश्न खड़ा करने और उन्हें कायर कहने वाले बुद्धिजीवी कुकुरमुत्ते की तरह उग आए हैं। अद्भुत-अद्भुत प्रश्न गढ़े जा रहे हैं। राजपूत वीर थे तो हार क्यों जाते थे? राणा रतन सिंह योद्धा थे तो उनकी पत्नी को आग लगा कर क्यों जलना पड़ गया?
स्वघोषित इतिहासकार यहां तक कह रहे हैं कि सल्तनत काल के राजपूत शासक इतने अकर्मण्य और कायर थे कि मुस्लिमों का प्रतिरोध तक नहीं कर सके। सोचता हूँ, क्या यह देश सचमुच इतना कृतघ्न है कि राजपूतों को कायर कह दे?
सन् 726 ई. से 1857 ई. तक सैकड़ों नहीं हजारो बार, सामने हार
Read 13 tweets
12 Jan
#क्षत्रिय_राजपूतों_के_रीतिरिवाज_की_जानकारी
जैसे :--
(1) #ठाकुर की उपाधि अपने नाम के आगे सिर्फ उस दशा में आप लगा सकते हैं जब आप के बाबा जी और पिता जी जीवित ना हों और आप अपने घर के मुखिया हों।
(2) #कुंवर की उपाधि अपने नाम के आगे आप सिर्फ उस दशा में लगा सकते हैं जब आप के पिता तो
👇
जीवित हों पर दादा नहीं हों।
(3) #भँवर की उपाधि अपने नाम के आगे आप उस दशा में लगाते हैं जब आप के बाबा जी और पिता जी दोनों जीवित हों।
(4) #टँवर की उपाधि अपने नाम के आगे आप उस दशा में लगते हैं जब आप के परदादा जीवित हों।
(5) अगर आप के पिता जी /दादाजी /बाबाजी अभी बिराज रहे है तो
👇
कोई भी शादी ,फंक्शन, मंदिर आदि में आप के कभी भी लम्बा तिलक और चावल नहीं लगेगा सिर्फ एक छोटा गोल टिका लगेगा।
(6) जब सिर पर साफा बंधा होता है तो तिलक करते समय पीछे हाथ नही रखा जाता हां सर के पीछे हाथ तभी रखते है जब आप नंगे सर हों।
(7) पिता का पहना हुआ साफा आप नहीं पहन सकते।
👇
Read 10 tweets
12 Jan
#राम_धनुष_टूटने_की_सत्य_घटना.

बात 1880 के अक्टूबर नवम्बर की है बनारस की एक रामलीला मण्डली रामलीला खेलने तुलसी गांव आयी हुई थी..मण्डली में 22-24 कलाकार थे जो गांव के ही एक आदमी के यहाँ रुके थे वहीं सभी कलाकार रिहर्सल करते और खाना बनाते खाते थे.
@khusboomishra1
@ITI09604807
👇 Image
पण्डित कृपाराम दूबे उस रामलीला मण्डली के निर्देशक थे और हारमोनियम पर बैठ के मंच संचालन करते थे और फौजदार शर्मा साज-सज्जा और राम लीला से जुड़ी अन्य व्यवस्था देखते थे...एक दिन पूरी मण्डली बैठी थी और रिहर्सल चल रहा था तभी पण्डित कृपाराम दूबे ने फौजदार से कहा इस बार वो शिव धनुष
👇
हल्की और नरम लकड़ी की बनवाएं ताकि राम का पात्र निभा रहे 17 साल के युवक को परेशानी न हो पिछली बार धनुष तोड़ने में समय लग गया था...
इस बात पर फौजदार कुपित हो गया क्योंकि लीला की साज सज्जा और अन्य व्यवस्था वही देखता था और पिछला धनुष भी वही बनवाया था... इस बात को लेकर पण्डित जी
👇
Read 13 tweets

Did Thread Reader help you today?

Support us! We are indie developers!


This site is made by just two indie developers on a laptop doing marketing, support and development! Read more about the story.

Become a Premium Member ($3/month or $30/year) and get exclusive features!

Become Premium

Too expensive? Make a small donation by buying us coffee ($5) or help with server cost ($10)

Donate via Paypal Become our Patreon

Thank you for your support!

Follow Us on Twitter!