#काँग्रेस_के_कुकर्म का जीता जागता #उदाहरण
☝जो हम सभी के सामने #प्रत्यक्ष_रूप से हम सभी के सामने है
☝लेकिन फिर भी आजतक हम #हिन्दू इसे नहीं पहचान पा रहे
#काँग्रेसियों_की_मालकिन😠 #एंटोनियो_माइनो💀 उर्फ #सोनिया_गाँधी😠का वो #सच (भाग-2)जो हमारे बहुत से भाई बहन नहीं जानते*

👇👇👇
☝भारत की खुफ़िया एजेंसी"रॉ"जिसका गठन #21सितम्बर1968 में हुआ था,#रॉ #RAW ने विभिन्न देशों की #गुप्तचर_एजेंसियों जैसे
👉#अमेरिका की #सीआईए,
👉#रूस की #केजीबी,
👉#इजराईल की #मोस्साद और
👉#फ़्रांस की #DGSE
तथा
👉#जर्मनी की #BND में अपने पेशेगत #संपर्क बढ़ाये और एक नेटवर्क खडा़ किया।
☝इन खुफ़िया एजेंसियों के अपने-2 सूत्र थे और वे #आतंकवाद,#घुसपैठ और #चीन_के_खतरे के बारे में #सूचनायें आदान-प्रदान करने में सक्षम थीं।

☝लेकिन "रॉ" ने #इटली की खुफ़िया एजेंसियों से इस प्रकार का कोई #सहयोग या #गठजोड़ नहीं किया था,
☝क्योंकि"रॉ"के वरिष्ठ जासूसों का मानना था कि
☝इटालियन खुफ़िया एजेंसियाँ #भरोसे के काबिल नहीं हैं और उनकी सूचनायें देने की क्षमता पर भी उन्हें संदेह था।
☝सक्रिय राजनीति में"राजीव गाँधी"का प्रवेश हुआ 1980 में #संजय की मौत के बाद...

👉"रॉ"की नियमित"ब्रीफ़िंग"में राजीव गाँधी भी भाग लेने लगे थे
☝"#ब्रीफ़िंग"उस संक्षिप्त बैठक
को कहते है.जिसमें "रॉ" या "सीबीआई"या "पुलिस"या कोई और "सरकारी संस्था"#प्रधानमन्त्री या #गृहमंत्री को अपनी रिपोर्ट देती हैं☝

☝जबकि राजीव गाँधी सरकार में किसी भी पद पर नहीं था,तब वे सिर्फ़ काँग्रेस का महासचिव था।
राजीव गाँधी चाहता था कि अरुण नेहरू और अरुण सिंह भी"रॉ"की इन बैठकों
में शामिल हों।
"रॉ"के कुछ वरिष्ठ अधिकारियों ने दबी जुबान में इस बात का विरोध किया था चूँकि राजीव गाँधी किसी अधिकृत पद पर नहीं था।
☝लेकिन इंदिरा गाँधी ने"रॉ"से उन्हें इसकी अनुमति देने को कह दिया था,फ़िर भी "रॉ"ने इंदिरा को स्पष्ट कर दिया था कि इन लोगों के नाम इस ब्रीफ़िंग के
रिकॉर्ड में नहीं आएंगे।
☝उन बैठकों के दौरान राजीव गाँधी सतत "रॉ" पर दबाव डालता रहता था कि वे इटालियन खुफ़िया एजेंसियों से भी गठजोड़ करें।👉राजीव गाँधी ऐसा क्यों चाहता था?👈 या क्या वे इतना अनुभवी था कि उन्हें इटालियन एजेंसियों के महत्व का पता भी चल गया था?
ऐसा कुछ नहीं था, इसके
पीछे एकमात्र कारण थी सोनिया गाँधी।
☝राजीवगाँधी ने सोनिया से सन1968 में विवाह किया था, और हालांकि"रॉ"मानती थी कि इटली की एजेंसी से गठजोड़ सिवाय पैसे और समय की बर्बादी के अलावा कुछ नहीं है राजीव लगातार दबाव बनाते रहा
अन्ततः दस वर्षों से भी अधिक समय के पश्चात"रॉ"ने इटली की खुफ़िया
संस्था से गठजोड़ कर लिया।
☝क्या आप जानते हैं कि"रॉ"और इटली के जासूसों की पहली आधिकारिक मीटिंग की व्यवस्था किसने की?
जी हाँ, सोनिया गाँधी ने।
👉सीधी सी बात यह है कि वह इटली के जासूसों के निरन्तर सम्पर्क में थीं।
एक मासूम गृहिणी,जो राजनैतिक और प्रशासनिक मामलों से अलिप्त हो और उसके
इटालियन खुफ़िया एजेन्सियों के गहरे सम्बन्ध हों यह सोचने वाली बात है,वह भी तब जबकि इसने भारत की नागरिकता नहीं ली थी।
प्रधानमंत्री के घर में रहते हुए,जबकि राजीव खुद सरकार में नहीं था।
हो सकता है कि"रॉ"इसी कारण से इटली की खुफ़िया एजेंसी से गठजोड़ करने से कतरा रहे हों..
☝क्योंकि ऐसे
किसी भी सहयोग के बाद उन जासूसों की पहुँच सिर्फ़ "रॉ" तक न रहकर प्रधानमंत्री कार्यालय तक हो सकती थी।
☝जब पंजाब में आतंकवाद चरम पर था तब सुरक्षा अधिकारियों ने इंदिरा गाँधी को बुलेटप्रूफ़ कार में चलने की सलाह दी,इंदिरा गाँधी ने अम्बेसेडर कारों को बुलेटप्रूफ़ बनवाने के लिए कहा..
☝उस वक्त भारत में बुलेटप्रूफ़ कारें नहीं बनती थीं इसलिये एक जर्मन कम्पनी को कारों को बुलेटप्रूफ़ बनाने का ठेका दिया गया।
अब आपके आश्चर्य वाली बात ये है कि उस ठेके का बिचौलिया कौन था,#वाल्टर_विंसी,सोनिया गाँधी की बहन अनुष्का का पति
"रॉ"को हमेशा यह शक था कि उसे इसमें कमीशन मिला था
☝लेकिन कमीशन से भी गंभीर बात यह थी कि इतना महत्वपूर्ण सुरक्षा सम्बन्धी कार्य उसके मार्फ़त दिया गया। इटली का प्रभाव सोनिया दिल्ली तक लाने में कामयाब रही थी
☝जबकि इंदिरागाँधी जीवित थी।
☝दो साल बाद 1986 में ये वही #वाल्टर_विंसी था,जिसे एसपीजी को इटालियन सुरक्षा एजेंसियों द्वारा
प्रशिक्षण दिये जाने का ठेका मिला और आश्चर्य की बात यह कि इस सौदे के लिये उन्होंने नगद भुगतान की मांग की और वह सरकारी तौर पर किया भी गया।
यह नगद भुगतान पहले एक"रॉ"अधिकारी के हाथों जिनेवा(स्विटजरलैण्ड)पहुँचाया गया
☝लेकिन वाल्टर विंसी ने जिनेवा में पैसा लेने से मना कर दिया और"रॉ"के
अधिकारी से कहा कि वह ये पैसा मिलान(इटली)में चाहता है, विंसी ने उस अधिकारी को कहा कि वह स्विस और इटली के कस्टम से उन्हें आराम से निकलवा देगा और यह "कैश" चेक नहीं किया जायेगा ।
"रॉ" के उस अधिकारी ने उसकी बात नहीं मानी और अंततः वह भुगतान इटली में भारतीय दूतावास के जरिये किया गया।
इस नगद भुगतान के बारे में तत्कालीन कैबिनेट सचिव #बी०जी०देशमुख ने अपनी हालिया #किताब में उल्लेख किया है,
☝हालांकि वह तथाकथित ट्रेनिंग घोर असफ़ल रही और सारा पैसा लगभग व्यर्थ चला गया।
इटली के जो सुरक्षा अधिकारी भारतीय एसपीजी कमांडो को प्रशिक्षण देने आये थे उनका रवैया जवानों के
प्रति बेहद रूखा था,एक जवान को तो उस दौरान थप्पड़ भी मारा गया।
"रॉ"अधिकारियों ने यह बात राजीव को बताई और कहा कि इस व्यवहार से सुरक्षा बलों के मनोबल पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है और उनकी खुद की सुरक्षा व्यवस्था भी ऐसे में खतरे में पड़ सकती है,घबराये हुए राजीव ने तत्काल वह ट्रेनिंग
रुकवा दी,लेकिन वह ट्रेनिंग का ठेका लेने वाले विंसी को तब तक भुगतान किया जा चुका था।
राजीव गाँधी की हत्या के बाद तो सोनिया गाँधी पूरी तरह से इटालियन और पश्चिमी सुरक्षा अधिकारियों पर भरोसा करने लगी।
खासकर उस वक्त जब राहुल और प्रियंका यूरोप घूमने जाते थे
सन 1985 में जब राजीव सपरिवार
फ़्रांस गये थे,तब"रॉ"का एक अधिकारी जो फ़्रेंच बोलना जानता था,उनके साथ भेजा गया था,ताकि फ़्रेंच सुरक्षा अधिकारियों से तालमेल बनाया जा सके।
👉#लियोन(फ़्रांस)में उस वक्त एसपीजी अधिकारियों में हड़कम्प मच गया जब पता चला कि राहुल और प्रियंका गुम हो गये हैं।
भारतीय सुरक्षा अधिकारियों को
#विंसी ने बताया कि चिंता की कोई बात नहीं है,दोनों बच्चे #जोस_वाल्डेमारो के साथ हैं जो कि सोनिया की एक और बहन नादिया के पति हैं।
विंसी ने उन्हें यह भी कहा कि वे वाल्डेमारो के साथ स्पेन चले जायेंगे जहाँ स्पेनिश अधिकारी उनकी सुरक्षा संभाल लेंगे।भारतीय सुरक्षा अधिकारी यह जानकर अचंभित
रह गये कि न केवल स्पेनिश बल्कि इटालियन सुरक्षा अधिकारी उनके स्पेन जाने के कार्यक्रम के बारे में जानते थे। जाहिर है कि एक तो सोनिया गाँधी तत्कालीन प्रधानमंत्री #नरसिम्हारावजी के अहसानों के तले दबना नहीं चाहती थीं, और वे भारतीय सुरक्षा एजेंसियों पर विश्वास नहीं करती थीं। इसका एक और
सबूत इससे भी मिलता है कि

👉एक बार सन 1986 में जिनेवा स्थित "रॉ" के अधिकारी को वहाँ के पुलिस कमिश्नर #जैक_कुन्जी़ ने बताया कि #जिनेवा से दो वीआईपी बच्चे इटली सुरक्षित पहुँच चुके हैं, खिसियाये हुए "रॉ"अधिकारी को तो इस बारे में कुछ मालूम ही नहीं था।
जिनेवा का पुलिस कमिश्नर उस "रॉ"
अधिकारी का मित्र था,लेकिन यह अलग से बताने की जरूरत नहीं थी कि वे वीआईपी बच्चे कौन थे।
वे कार से वाल्टर विंसी के साथ जिनेवा आये थे और स्विस पुलिस तथा इटालियन अधिकारी निरन्तर सम्पर्क में थे जबकि "रॉ" अधिकारी को सिरे से कोई सूचना ही नहीं थी,
👉लेकिन ये बात चिंताजनक थी,उस स्विस पुलिस
कमिश्नर ने ताना मारते हुए कहा कि "तुम्हारे प्रधानमंत्री की पत्नी तुम पर विश्वास नहीं करती और उनके बच्चों की सुरक्षा के लिये इटालियन एजेंसी से सहयोग करती है"।
बुरी तरह से अपमानित रॉ के अधिकारी ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों से इसकी शिकायत की,लेकिन कुछ नहीं हुआ । अंतरराष्ट्रीय खुफ़िया
एजेंसियों के गुट में तेजी से यह बात फ़ैल गई थी कि सोनिया गाँधी भारतीय अधिकारियों,भारतीय सुरक्षा और भारतीय दूतावासों पर बिलकुल भरोसा नहीं करती है और यह निश्चित ही भारत की छवि खराब करने वाली बात थी
👉राजीव की हत्या के बाद तो विदेश प्रवास के बारे में विदेशी सुरक्षा एजेंसियाँ
👇👇👇
#एसपीजी से अधिक सूचनायें पा जाती थी और भारतीय पुलिस और "रॉ"उनका मुँह देखते रहते थे।
👉(ओट्टावियो क्वात्रोची के बार-बार मक्खन की तरह हाथ से फ़िसल जाने का कारण समझ में आया?)👈
उनके निजी सचिव विंसेंट जॉर्ज सीधे पश्चिमी सुरक्षा अधिकारियों के सम्पर्क में रहते थे,"रॉ"अधिकारियों ने इसकी
शिकायत #नरसिम्हाराव से की थी,
☝लेकिन जैसी की उनकी आदत(?)थी वे मौन*साधकर बैठ गये।
संक्षेप में तात्पर्य यह कि,जब एक गृहिणी होते हुए भी वे गंभीर सुरक्षा मामलों में अपने परिवार वालों को ठेका दिलवा सकती है,राजीव गाँधी और इंदिरा गाँधी के जीवित रहते"रॉ"को इटालियन जासूसों से सहयोग करने
को कह सकती है,सत्ता में ना रहते हुए भी भारतीय सुरक्षा अधिकारियों पर अविश्वास दिखा सकती है,तो अब

☝जबकि सारी सत्ता और ताकत उसके हाथों में थी,
वे क्या-क्या कर सकती थी और बल्कि क्या नहीं कर सकती, 👉हालांकि "मैं भारत की बहू हूँ" और "मेरे खून की अंतिम बूँद भी भारत के काम आयेगी" आदि
ये यदा-कदा बोलती रहती है,लेकिन यह असली सोनिया नहीं है। समूचा पश्चिमी जगत,जो कि जरूरी नहीं कि भारत का मित्र ही हो,उनके बारे में सब कुछ जानता है।
☝लेकिन हम भारतीय लोग सोनिया के बारे में कितना जानते हैं??
(भारतभूमि पर जन्म लेने वाला व्यक्ति चाहे कितने ही वर्ष विदेश में रह ले, स्थाई
तौर पर बस जाये लेकिन उसका दिल हमेशा भारत के लिये धड़कता है, और इटली में जन्म लेने वाले व्यक्ति का सोनिया गाँधी, इटली,की खुफ़िया एजेंसी,राहुल गाँधी, प्रियंका गाँधी,सोनिया गाँधी भारत की प्रधानमंत्री बनने के योग्य हैं या नहीं, इस प्रश्न का "धर्मनिरपेक्षता " या "हिन्दू राष्ट्रवाद"या
"भारत की बहुलवादी संस्कृति" से कोई लेना-देना नहीं है।

☝इसका पूरी तरह से नाता इस बात से है कि उनका जन्म इटली में हुआ,लेकिन यही एक बात नहीं है,सबसे पहली बात तो यह कि देश के सबसे महत्वपूर्ण पद पर आसीन कराने के लिये कैसे इस पर भरोसा किया जाये...
#काँग्रेस😠वाले क्यों नहीं मानते कि सोनिया गाँधी एक शुरू से हमारे देश के खिलाफ दूसरे देशों के लिए एजेंटों में एक थी और आज भी है...

👉काँग्रेस वालो/से कुछ सवाल इस प्रकार है:-

☝1. सोनिया गाँधी कितनी पढ़ी-लिखी है?
☝2. सोनिया गाँधी पर भारतीय गधे राजीव गाँधी का दिल आया था या ये
एक साजिश के तहत राजीव गधे को सोनिया गाँधी के शादी के जाल में फँसाया गया था?

☝3. राजीव गाँधी की हत्या किसने करवाई???
👉कसाब को फाँसी दी गयी पर राजीव गाँधी के हत्यारों को अब तक फाँसी क्यों नहीं दी गयी?👈

☝4.सोनिया गाँधी के राजीव से शादी होने से पहले किस-किस भारतीय अय्याश के साथ
अवैध सम्बन्ध थे???

☝5.सोनिया से शादी के बाद राजीव ने अपना धर्मपरिवर्तन किया था,धर्मपरिवर्तन के बाद राजीव गाँधी का नाम क्या था?

☝6.जितिन प्रसाद,राजेश पायलेट,माधवराव सिंधिया इनमे से किस की हत्या किसने करवायी है?

☝7.बोफ़ोर्स तोप दलाल क्वात्रोचि के सोनिया के साथ क्या सम्बन्ध थे
व हैं?और अभी तक क्वात्रोचि को भारत सरकार ने गिरफ़्तार क्यों नहीं किया था?

☝8.सोनिया गाँधी सालाना कितना कमाती है?
सोनिया के कितने ट्रस्ट हैं और गाँधी-नेहरु खानदान के कितने ट्रस्टों पर सोनिया का कब्ज़ा है???

☝9.सोनिया गाँधी अपनी कमाई का सालाना कितना इनकम टेक्स सरकार को देती है?
☝10. पिछले 10 सालों में सोनिया गाँधी की विदेश यात्राओं पर कितना खर्च हुआ है?

☝11. सोनिया गाँधी का गुप्त एजेण्डा क्या है?

☝12.सोनिया गाँधी का विदेशों में कितना कालाधन जमा है ?

☝13. सोनिया गाँधी ने आज तक मीडिया को अपना कोई व्यक्तिगत इंटरव्यू क्यों नहीं दिया?

#Decoded
☝14. सोनिया गाँधी ने कालेधन , लोकपाल, FDI के मुद्दे पर मुखर रूप से कोई बयान क्यों नहीं दिया डिबेट क्यों नहीं की???
⏳⏳⏳
सोनिया गाँधी का वह सच जो आपके होश उड़ा देगा -

khulasokiduniya.blogspot.in/2015/05/blog-p…

⏳⏳⏳

• • •

Missing some Tweet in this thread? You can try to force a refresh
 

Keep Current with Badal Saraswat

Badal  Saraswat Profile picture

Stay in touch and get notified when new unrolls are available from this author!

Read all threads

This Thread may be Removed Anytime!

PDF

Twitter may remove this content at anytime! Save it as PDF for later use!

Try unrolling a thread yourself!

how to unroll video
  1. Follow @ThreadReaderApp to mention us!

  2. From a Twitter thread mention us with a keyword "unroll"
@threadreaderapp unroll

Practice here first or read more on our help page!

More from @badal_saraswat

4 Feb
#काँग्रेस_के_कुकर्म और #दिल्ली_का_धृष्ठराज

#NOV2013 में #बाबा_रामदेव के खिलाफ एक ही दिन में 80 से अधिक मुकदमे दर्ज करने वाली #काँग्रेस_सरकार😠 की उदासीनता दर्शाती थी कि #दिल्ली_के_धृष्ठराज😠#केजरीवाल😠को वह अपने राजनैतिक फायदे के लिए प्रोत्साहित कर रही थी😠

पूरा पढ़िये👇👇👇 ImageImageImage
बीजेपी के पक्ष में खुलकर उतरे बाबा पर कांग्रेस सरकार ने एक दिन में लाद दिए 81 मुकदमे. 1,000 से भी अधिक नोटिस बाबा से जुड़ी संस्थाओं को जारी किए जा चुके हैं.
#NOV2013 👇👇👇

google.com/amp/s/m.jagran…
☝लेकिन सच्चाई यही है कि शुरू से ही #विवादों_का_पिटारा है #दिल्ली_का_धृष्ठराज😠 @ArvindKejriwal और इसके साथ इसका चमचा🍴 @msisodia इन दोनों पर कोई #कार्यवाही नहीं की😠😠😠

#सन2006 में‘परिवर्तन’में काम करने के दौरान ही अमेरिकी ‘#फोर्ड_फाउंडेशन’ व ‘#रॉकफेलर_ब्रदर्स_फंड’ ने
Read 29 tweets
4 Feb
#काँग्रेस_के_कुकर्म
#इतिहास_ही_हमारी_धरोहर_है
☝बहुत सारी बड़ी #शक्तिया हैं,जो कि आज हमारे #भारत_देश को #तोड़ने का कार्य कर रहीं हैं...
☝इसका जीता जागता #उदाहरण अभी भी #प्रत्यक्ष रूप से हम आये दिन देख रहे हैं...
☝लेकिन सिर्फ #समझ नहीं रहे हैं क्यों????

पूरा पढ़िये👇👇👇 Image
☝हमें इसके लिए #जातिवाद को छोड़कर समस्त #हिन्दू_समाज एक साथ #एकजुट होकर #संगठित होकर मिलने की और एक साथ अपनी कमर कसने की जरूरत है। ☝हमारे भारत देश को #वैचारिक_तौर पर तोड़ने के लिए देश में रह रही देशविरोधी😠ताकतों के साथ और विदेशी ताकतें भी काम कर रहीं है😠😠😠
☝पता है क्यों???
#क्योंकि इस सब की वजह सिर्फ हम ही हैं जो इन्हें पनपने दे रहे हैं

👉(आप #राजीव_मल्होत्राजी की पुस्तक"ब्रेकिंग इंडिया" जरूर पढ़ें)👈

☝ऐसा नहीं है कि #अतीत में बड़े देश #टूटे नहीं है,#रूस, तो एक बड़ी #ताकत था,बड़ा देश था
☝लेकिन वह भी 16देशो में टूट गया
zeenews.india.com/hindi/special/…
Read 18 tweets
3 Feb
#काँग्रेस_के_कुकर्म

#सन1984_का_सिक्ख_नरसंहार😢😢😢
रोंगटे खड़े कर देने वाला वो सच जिसे आज हमारे भाई-बहन भुला बैठे हैं!*

#31अक्टूबर1984 को देश की राजधानी दिल्ली में अफरातफरी मची हुई थी,
👉क्योंकि प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या से हर कोई स्तब्ध था...

पूरा पढ़िये👇👇👇
ऐसे नाजुक माहौल में इंदिरा के बेटे राजीव ने देश की कमान संभाली...
जिस वक्त राजीव गांधी देश के प्रति अपनी जिम्मेदारियों😠 की शपथ* ले रहा था।
उसी वक्त दिल्ली की सड़कों पर एक अजीब सा शोर उठने लगा,एक ऐसा शोर, जिससे इंदिरा की मौत के बाद पसरा सन्नाटा टूटने लगा था....
.“खून का बदला खून”,“सरदार गद्दार हैं”.
कुछ ऐसे नारों के साथ शुरू हुआ #हिंसा का वह तांडव जिसे कभी कोई याद नहीं करना चाहता।
☝लेकिन जिन्होंने उसे झेला है,वे चाहकर भी उसे कभी भुला नहीं पायेंग,एम्स के अंदर इंदिरा गांधी का पार्थिव शरीर था और बाहर हजारों की भीड़ इकट्ठा थी।
उस भीड़ में
Read 65 tweets
3 Feb
#काँग्रेस_के_कुकर्म
#नेहरू_के_कुकर्म😠 #गाँधी_के_कुकर्म😠
#नोआखाली_का_वो_दर्दनाक_हत्याकांड😢

☝जिसमें #जिन्ना_के_कुकर्म भी शामिल थे😠
☝उसने #मुसलमानों😠 को सीधे #कत्लेआम करके पाकिस्तान लेने का #निर्देश दिया था😠
☝अगर वह चाहता तो यह #क़त्लेआम रुक सकता था...

पूरा पढ़िये👇👇👇
☝लेकिन #जिन्ना को तो मुसलमानों की ताकत दर्शानी थी😠😠😠
#16अगस्त1946 से दो दिन पूर्व ही जिन्ना ने["सीधी कार्यवाही(#DirectActionDay)]"की #धमकी दी गई थी।😠😠😠
☝हमारे देश के #हिन्दुओं को तब तक यही #उम्मीद थी कि #जिन्ना सिर्फ बोल रहा है, #देश के मुसलमान इतने बुरे नहीं है कि...
"#पाकिस्तान"के लिए #हिंदुओं का #कत्लेआम😢 करने लगेंगे और यहीं हमारे #हिन्दू अपने #जीवन की सबसे बड़ी #भूल कर बैठे और आज भी कर रहे हैं...
👉क्योंकि #धर्म का नशा,#शराब से भी ज्यादा #घातक होता है👈

#बंगाल और #बिहार में मुस्लिमों की संख्या #अधिक थी और #मुस्लिम_लीग की पकड़ भी यहाँ
Read 30 tweets
3 Feb
#काँग्रेस_के_कुकर्म 😠😠😠
#सिक्ख_नरसंहार1984 😢😢😢

#1नवम्बर1984 समय सुबह लगभग 09:45
#काँग्रेस😠 के नेतृत्व मे #कसाई के पाठ में आने वाले सैंकडों लोगों का एक #आसुरी_जमघट दिल्ली के #पटेल_नगर(#वेस्ट)इलाके मे पहुंचा।
रेडीमेड कपड़े के एक शॉ-रूम को #निशाना बनाया गया था...

READ👇👇👇 Image
☝क्योंकि उसके मालिक एक #सिक्ख थे।
☝उस #मकान के तल के अगले #हिस्से को शो-रूम में #बदलकर पिछले #हिस्से के घर में समस्त #परिवार हँसी-खुशी रहता था।
#इंदिरा_गाँधी💀 की #हत्या के बाद शोक में डूबे #दिल्ली शहर की तरह यह इन्होंने भी अपनी दुकान बंद रखी थी।
#देशद्रोहियों😠,#गुंडों😠,
और #मवालियों😠 से भरपूर उस #जमघट ने शो-रूम को #निशाना बनाया और उसे #तोड़ना शुरू कर दिया और #दुकान को लूटने के बाद उसमें #आग लगा दी थी।😠😠
☝इस #दुकान के मालिक शख्स कोई #साधारन व्यक्ति नहीं थे।
☝इनका नाम"ग्रुप कैप्टन #महावीर_श्री_मनमोहन_सिंह_तलवार था।

#ग्रुप_कैप्टन कितना बड़ा
Read 19 tweets
31 Jan
#काँग्रेस_के_कुकर्म का पाला हुआ वो साँप😠 #हामिद_अंसारी😠😠😠
☝जिसको हमारे भारत देश में जितना भी दूध पिलाया...
उससे कहीं जहर उगला #देशद्रोही😠#गद्दार😠 ने
☝इसके #विवादित_बयान😠 और #विवादित_कारनामे साफ भाषा में कहूँ तो #कुकर्म एक बार नहीं कई बार देखे गए..जैसे

पूरा पढ़िये👇👇👇
☝1-राज्यसभा का मनचाहा स्थगन😠

☝2-योग दिवस के फंक्शन से नदारद रहना😠

☝3-हमारे राष्ट्रीय ध्वज को #सलामी नहीं देना😠😠😠

☝4-"मुस्लिमों में डर"वाले बयान के बारे में तो आप सभी जानते हैं(ये तो सबसे ज्यादा डरा हुआ है)😠😠😠

☝5-इस देशद्रोही के द्वारा पूजा की थाली ना लेना😠😠😠
☝लेकिन इन सबके अलावा भी इस #देशद्रोही😠 के अनेकों और भी बहुत से कुकर्म हैं😠😠😠

☝जिनमें से ये भी एक है,ये बात #सन1990 के दशक के आखिरी वर्षों की है...
☝जब ये #हामिद_अंसारी😠 #ईरान में भारत का #राजदूत हुआ करता था।
☝उस समय #तेहरान मे पोस्टेड #RAW के जासूस #Mr_Kapoor को तेहरान
Read 19 tweets

Did Thread Reader help you today?

Support us! We are indie developers!


This site is made by just two indie developers on a laptop doing marketing, support and development! Read more about the story.

Become a Premium Member ($3/month or $30/year) and get exclusive features!

Become Premium

Too expensive? Make a small donation by buying us coffee ($5) or help with server cost ($10)

Donate via Paypal Become our Patreon

Thank you for your support!

Follow Us on Twitter!