Discover and read the best of Twitter Threads about #ईसाई

Most recents (8)

#समग्र_अनुभूति_है_हिंदू_होना

#डिस्कवरी_चैनल पर Man vs Wild ही की तरह का एक #शो आता था। उस #शो का अब नाम तो मुझे ध्यान नहीं पर उसमें जो शख्स था जो गले में #क्रॉस पहनता था यानि वो आस्था से #ईसाई रहे होंगे।

आज उनके ज़िक्र की जरूरत इसलिए है क्यूंकि #हिन्दू की परिभाषा को (1/21)
लेकर बड़ा भ्रम व्याप्त है। कुछ लोग कहते हैं कि #हिन्दू को परिभाषित नहीं किया जा सकता तो कुछ लोग कहते हैं कि नहीं #हिन्दू की परिभाषा है और वो ये है कि #हिमालय और #हिंद_महासागर के बीच की जमीन पर रह रहे सारे लोग हिंदू हैं और एक यह एक #भौगोलिक_पहचान है। वहीं कुछ लोग किन्हीं (2/21)
शास्त्रों का हवाला देते हुए कहते हैं कि #हिन्दू वो है जो दुष्टों का हनन करे। कुछ लोगों के मत के अनुसार जो #ओंकार को अपना #मूल_मंत्र मानता है, #गाय और #गंगा में आस्था रखता है तथा #पुनर्जन्म को मानता है वो #हिन्दू है।

जबकि मेरी दृष्टि में #हिन्दू होना किसी #आस्था मात्र के (3/21)
Read 21 tweets
एक #दलित_मुख्यमंत्री बर्दाश्त नही हो रहा है, इस पर अनेकों लोगो के बयान आ गये और लाखों #कोंगिये_फेसबुकियों की बकवास सुनने और पढने को मिल गयी।

#देश_और_हिन्दू_विरोधियों के हिसाब से #दलित तो सिर्फ वो ही हो सकता है, जो एक #ईसाई होकर भी सिख बन कर रहता हो।

उन लोगों के द्वारा (1/13)
देश के #प्रथम_नागरिक माननीय राष्ट्रपति जी #दलित नही माने जा रहे है। #सन्त_रविदास_जी_महाराज और #वाल्मीकि_जी को हिन्दू समाज तो उन्हें #आदरणीय मानता है, लेकिन #हराम_की_औलादे उन्हें भी नही मानती।

सन्त रविदास जी जिन्हें #रैदास भी कहा जाता है। ईस्वी वर्ष 1376-77 के #माघ माह (2/13)
की #पूर्णिमा को जन्मे थे। इन के पिता शूद्र थे तो जाहिर है ये भी शूद्र थे, #शूद्र, जो कि वर्तमान हिसाब से #दलित हुये।

पिता श्री संतोखदास अपने नगर के सरपंच भी थे और प्राकृतिक तौर पर मृत पशुओं का चमड़ा उतार कर चप्पल/जूते बनाते थे।

गौरतलब बात ये है कि इनके गुरु का नाम है, (3/13)
Read 13 tweets
हम कुछ राष्ट्रवादी हिन्दू लोग कुत्ते की दुम को सीधा करने की कोशिश कर रहे है। हम लोग रात दिन बहुत सी #जानकारियां देकर,
हिन्दुओं को जगाने के लिए प्रयत्नशील है। ताकि दुनिया में "जो हुआ" और "जो हो रहा है" उस से बचा जा सके।

आज एक किस्सा लाया हूँ जो कि ज्यादा पुराना नहीं हैं, (1/39)
जो कि मेरे लिए तो सिर्फ कल ही की बात है।

साइप्रस का इतिहास.. और.. भारत का भविष्य!

#साइप्रस नाम के इस छोटे से देश की कहानी को ध्यान से पढ़ें.. आप को कुछ जानी पहचानी लगेगी।

#साइप्रस भू मध्य सागर में स्थित एक छोटा सा द्वीप है जो टर्की {तुर्की} से 40 मील दक्षिण और ग्रीस से (2/39)
480 मील दक्षिणपूर्व पर स्थित है। इसी के नजदीक है मुसलमानों की आपसी मारकाट में बर्बाद #सीरिया और इस्लाम के नाम हर खुनी हमले करने वालो की #गाजा_पट्टी और यही पर है चारो तरफ से #मुस्लिम_देशों से घिरा हुआ और इस्लामिक आतंकी गुट #हमास के आतंकी हमले झेलने वाला देश #इजरायल और इसी (3/39)
Read 39 tweets
इस्लाम को सबसे पुराना मजहब कहने वालों को मेरा जवाब..

चलो मान लिया रसूल अल्ला आखिरी नबी थे.. आदम अस्सलाम पहले नबी थे.. अपनी किताबे अव्वल #कुरान..

#अंजील.. #तोरैत.. #जबूर.. सबको एक साथ रखने पर और उनमें से अपने नबियों का इतिहास खंगालने पर.. ये पता चला..
'आदम अलैही (1/7)
अस्सलाम' आज से ठीक 6014 बरस पहले बनाए गए.. और रसूल अल्ला करीब 1430 बरस पहले आए.. इस दौरान 124000 नबी आए.. लगभग हर 13 दिन में एक नबी.. आप मुझे और सारी दुनियाँ को ये बता दें इस्लाम कितने साल पुराना है.. इस्लाम बस 1400 साल पुराना है.. क्योंकि आप जिसे इस्लाम कहने का दावा (2/7)
पेश कर रहे हो उसे.. रसूल अल्ला ने ही अपनी किताब में ईसाइयत और यहूद का नाम दिया है.. केवल मुसलमान इस्लाम को मानता है.. मुसलमान का मतलब ही यही है.. ला इलाही इल्ललाह.. मोहम्मद रसूल अल्लाह.. जिसका #ईमान रसूल के बताए अल्लाह पर हो और उसकी किताब कुरान पर हो.. बांकी और किसी को (3/7)
Read 7 tweets
30 दिसम्बर 2017 को एक आदमी केरल के कोच्ची हवाई अड्डे पर आता है बैंकाक से!! जैसे ही वो इमीग्रेशन पर पासपोर्ट देता है तो कम्प्यूटर में चेक करने के बाद महिला इमग्रेशन अफसर उससे उसका नाम बोलने को कहती है!

वो आदमी बोलता है नाम पासपोर्ट पर लिखा है। वो अफसर डाँट के बोलती है, (1/15)
बहस नहीं नाम बोलो! वो नाम बोलता है, इमीग्रेशन अफसर तत्काल उसको अपने सीनियर के हवाले कर देती है!

पूरी रात वो आदमी हवाई अड्डे के उस कमरे में बैठा रहता है! सुबह की पहली फ्लाइट से वापस उसको देश से निकाल दिया जाता है! इससे पहले रात भर वो आदमी केरल से लेकर दिल्ली तक के हर बड़े (2/15)
कांटेक्ट को फ़ोन करता है! लेकिन उसकी दाल नहीं गलती!

केंद्र सरकार से सीधे आदेश है और IB के लोग हवाई अड्डे पर जमे हैं! कोई कुछ नहीं कर सकता। 100 साल से ऊपर पुरानी पार्टी के लोग उसको घुसाने के लिए हर जुगाड़ लगाते हैं! लेकिन मोदी सरकार में कुछ नहीं कर सकता!

मोदी - राजनाथ की (3/15)
Read 15 tweets
इस 👇#Tweet के सभी भाग को बहुत बारीकी से और ध्यानपूर्वक #पढ़ें

🚩वर्ष 1947 में विभाजन के #उपरांत देश स्वतंत्र हुआ। तदुपरांत #वर्ष 1950 में संविधान लागू हुआ। उस समय कहा गया कि सभी को #समान न्याय मिलेगा। इस कारण सब #अत्याचार भूलकर हिन्दू उसे स्वीकारने के लिए तैयार हो गए..!!
परंतु प्रत्यक्ष में #धर्मनिरपेक्षता के नाम पर अल्पसंख्यकों को सुविधा देकर हिंदुओं का दमन किया जा रहा है। आज मुसलमान अपने ##धर्म के लिए ‘फिदायीन’ बनकर समय पड़ने पर अपने प्राण देने को तैयार हो जाते हैं। ऐसे समय हम हिन्दू #अधिवक्ताओं को भी कानून का अध्ययन कर,
न्यायालय में ‘#फिदायीन’ बनकर हिन्दू को न्याय दिलाने के लिए निःस्वार्थ वृत्ति के साथ #प्राणपण से प्रयास करने चाहिए । देश में बडी संख्या में हिन्दुओं का #धर्मांतरण हो रहा है, इसे रोकना आवश्यक है। इस पृष्ठभूमि पर धर्मांतरण-विरोधी कानून #बनाने के लिए अधिवक्ता प्रयास करें।
Read 14 tweets
1857 के क्रांतिवीर बलिदानी राजा शंकर शाह, कुँवर रघुनाथ शाह को 18 सितम्बर आत्मबलिदान दिवस पर सादर विनम्र श्रद्धासुमनों के साथ काव्यांजलि समर्पित।

#वनराज
पिता - पुत्र के बलिदानों की, ये है अमर कहानी।
गढ़ पुरवा के महल में रहते, पिता - पुत्र बलिदानी।
हम #हिन्दू, हम (1/10)
हिन्दुस्थानी- हम हिन्दू हम हिन्दुस्थानी।
आओ सुनो कहानी, आओ सुनो कहानी।

(बुंदेली लोकगीत)
वे तो राजा #शंकर शाह, कुँवर #रघुनाथ बहादुर रे।
जगाई अमर क्रांति की आग,लिखी #बलिदान कहानी रे।।ध्रु.।।

उनके #पुरखे संग्राम शाह, बहादुर दुर्गारानी रे।
उनके दादा निजाम शाह,#पिता थे (2/10)
सुमेद शाही रे।। 1।।
वे तो राजा #शंकर शाह..........

अंगरेजन के राज प्रजा थी, बहुत #दुखारी रे।
प्रजा पे देखे अत्याचार, मात को अरज सुनाई रे।। 2।।
वे तो राजा #शंकर शाह..........

अंगरेजन को मार भगाओ, मात भवानी रे।
करो इन दुष्टों का संहार, चंडिके माला माई रे।। 3।।
वे तो (3/10)
Read 11 tweets
प्रिय राघव जी @yapragun की प्रेरणा से कुछ विचार रखने की चेष्टा कर रही हूं. मैं पहले ही ये स्पष्ट कर दूँ कि मैं आधुनिकता के विरुद्ध बिल्कुल नहीं हूं. लेकिन मेरा ये मानना है कि जो अपनी जड़ों से दूर हो जाता है उसकी हालत डोर से कटी हुई पतंग की तरह हो जाती है
. हाँ जो गलत है काल संगत नहीं है उन चीजों को बदलना जरूरी है.
मशहूर साहित्यकार #शिवानी की बेटी ईरा पांडे बताती हैं, " मेरे नाना के बगल का घर डेनियल पंत का था। जो की एक #ईसाई थे।
गलत ये नहीं उनका ईसाई होना, संस्कृति का फर्क़ है.
हमारे दकियानुसी नाना ने उनकी दुनिया को हमारी दुनिया से अलग करने के लिए हमारे घरों के बीच एक दीवार बना दी थी। हमें सख्त हिदायत थी कि हम दूसरी तरफ देखे भी नहीं।

अभी ऐसे कोई बोले तो न कोई सुनेगा या तो लंबा भाषण देगा, लेकिन नानी ने ऐसे क्यों कहा ये कोई सोचेगा नहीं..
Read 15 tweets

Related hashtags

Did Thread Reader help you today?

Support us! We are indie developers!


This site is made by just two indie developers on a laptop doing marketing, support and development! Read more about the story.

Become a Premium Member ($3.00/month or $30.00/year) and get exclusive features!

Become Premium

Too expensive? Make a small donation by buying us coffee ($5) or help with server cost ($10)

Donate via Paypal Become our Patreon

Thank you for your support!