Discover and read the best of Twitter Threads about #धरती

Most recents (3)

🚩स्वामी विवेकानन्द जी का जन्म 12 जनवरी सन 1863 (विद्वानों के अनुसार #मकर संक्रान्ति संवत 1920) को #कलकत्ता में एक कायस्थ परिवार में हुआ था। उनके बचपन का नाम #नरेन्द्रनाथ दत्त था। पिता विश्वनाथ दत्त कलकत्ता हाईकोर्ट के एक प्रसिद्ध वकील थे।
🚩दुर्गाचरण दत्ता, (नरेंद्र के दादा)
संस्कृत और फारसी के विद्वान थे उन्होंने अपने #परिवार को 25 वर्ष की उम्र में छोड़ दिया और साधु बन गए।
🚩उनकी माता भुवनेश्वरी देवी धार्मिक विचारों की महिला थी। उनका अधिकांश समय भगवान शिव की पूजा-अर्चना में व्यतीत होता था।नरेंद्र के पिता और उनकी माँ के धार्मिक, #प्रगतिशील व तर्कसंगत
रवैये ने उनकी सोच और व्यक्तित्व को आकार देने में मदद की ।
🚩बचपन से ही #नरेन्द्र अत्यन्त कुशाग्र बुद्धि के तो थे ही नटखट भी थे।अपने साथी बच्चों के साथ वे खूब शरारत करते और मौका मिलने पर अपने अध्यापकों के साथ भी शरारत करने से नहीं चूकते थे। उनके घर में नियमपूर्वक रोज पूजा-पाठ होता
Read 48 tweets
इस 👇 #tweet के सभी भाग को ध्यानपूर्वक #पढ़ें

#औरंगजेब ने हुक्म दिया कि किसी हिन्दू को राज्य के कार्य में किसी उच्च स्थान पर #नियुक्त न किया जाये तथा हिन्दुओं पर #जजिया कर लगा दिया जाये। उस समय अनेकों कर केवल हिन्दुओं पर #लगाये गये। इस भय से असंख्य हिन्दू मुसलमान #हो गये।

1/17 Image
हिन्दुओं के पूजा #आरती आदि सभी धार्मिक कार्य बंद होने #लगें। मंदिर गिराये गये, मस्जिदें बनवायी गयीं और अनेकों धर्मात्मा #व्यक्ति मरवा दिये गये।
उसी समय #की उक्ति👇 है –

“सवा मन यज्ञोपवीत रोजाना #उतरवा कर औरंगजेब रोटी खाता था।”

2/17 Image
#औरंगज़ेब ने कहा – “सबसे कह दो या तो #इस्लाम धर्म कबूल करें या मौत को #गले लगा लें।”

इस प्रकार की #ज़बर्दस्ती शुरू हो जाने से अन्य धर्म के लोगों #का जीवन कठिन हो गया। हिंदू और ₹सिखों को इस्लाम अपनाने के लिए सभी #उपायों, लोभ लालच, भय दंड से मजबूर #किया गया।

3/17 Image
Read 17 tweets
मुरुदेश्वर मंदिर, भटकल, कर्नाटक

भगवान #शिव को समर्पित, यह मंदिर कन्दुका पहाड़ी पर, तीन ओर से पानी से घिरा हुआ है।
यह स्तिथ मूर्ति, विश्व की दूसरी सबसे ऊँची शिव मूर्ति है जिसकी ऊँचाई १२३ फीट है।

यहाँ भगवान शिव का आत्म लिंग स्थापित है, जिस की कथा रामायण काल से है।
#TemplesofIndia
एकंबरेश्वर मन्दिर, कांचीपुरम
छठी शताब्दी में निर्मित,"पंचभूत स्थलम" के पांच पवित्र शिव मंदिरों में से एक,यह #धरती तत्व का प्रतिनिधित्व करता है।
सहस्त्र स्तंभों के विशाल मंडप से युक्त इस मंदिर का गोपुरम 59 मीटर है।
मंदिर की भीतरी दीवारों पर 1008 शिवलिंग सज्जित हैं।
#TemplesofIndia
#मोढेरा_सूर्य_मंदिर, गुजरात
सन् १०२६ ई. में सोलंकी वंश के राजा भीमदेव द्वारा चालुक्य शैली में निर्मित, यह सूर्य मन्दिर भारतवर्ष में विलक्षण स्थापत्य एवम् शिल्प कला का बेजोड़ उदाहरण है।
मंदिर परिसर में गुढ़मंड़पा (बरामदा), गर्भगृह, रांगमंडप और एक पवित्र जलाशय हैं।

#TemplesOfIndia
Read 5 tweets

Related hashtags

Did Thread Reader help you today?

Support us! We are indie developers!


This site is made by just two indie developers on a laptop doing marketing, support and development! Read more about the story.

Become a Premium Member ($3.00/month or $30.00/year) and get exclusive features!

Become Premium

Too expensive? Make a small donation by buying us coffee ($5) or help with server cost ($10)

Donate via Paypal Become our Patreon

Thank you for your support!