Discover and read the best of Twitter Threads about #मैं_हूं_भारत

Most recents (3)

#मैं_हूं_भारत 🇮🇳

राजा परीक्षित को समझाते सुनातें हुए जब शुकदेव जी को छह दिन बीत गए और राजा परीक्षित का शोक और मृत्यु का भय दूर नहीं हुआ, राजा का मन क्षुब्ध हो रहा था। तब 16 वर्षीय शुकदेव जी ने परीक्षित को एक कथा सुनानी आरंभ की। राजन !
बहुत समय पहले की बात है, एक राजा (1/12)
किसी जंगल में शिकार खेलने गया। संयोगवश वह रास्ता भूलकर बड़े घने जंगल में जा पहुँचा।
उसे रास्ता ढूंढते-ढूंढते रात्रि हो गई और भारी वर्षा पड़ने लगी।
उसने एक बहेलिये की झोंपड़ी देखी। वह बहेलिया ज्यादा चल-फिर नहीं सकता था, इसलिए झोंपड़ी में ही एक ओर उसने मल-मूत्र त्यागने का (2/12)
स्थान बना रखा था। अपने खाने के लिए जानवरों का मांस उसने झोंपड़ी की छत पर लटका रखा था। बड़ी गंदी, छोटी, अंधेरी और दुर्गंधयुक्त वह झोंपड़ी थी। उस झोंपड़ी को देखकर पहले तो राजा ठिठका, लेकिन पीछे उसने सिर छिपाने का कोई और आश्रय न देखकर उस बहेलिये से अपनी झोंपड़ी में रात भर (3/12)
Read 12 tweets
#मैं_हूं_भारत 🇮🇳

#योगस्थ_कुरु_कर्माणि :

आपके काम करने का क्या तरीका है? समग्रता से काम करते हैं या फिर विभाजित व्यक्तित्व से काम करते हैं?

योगस्थ कुरु कर्माणि संग त्यक्तवा धन्नजय।
-भगवतवीता Image
योग का अर्थ है मिलन। किसका मिलन? कर्म के संदर्भ में बात हो रही है। तो हमारे पास कर्म करने के कितने उपकरण उपलब्ध हैं।

कृष्ण कहते हैं:
शरीर वाक मनोभि: यत् कर्म प्रारभते नर:।

शरीर मन और वाणी से जो कर्म मनुष्यों द्वारा शुरू किए जाते हैं। अर्थात यही तीन यंत्र हैं हमारे
पास कर्म करने के। इन्ही तीन उपकरणों की सहायता से हम अपने समस्त कर्म करते हैं : शरीर वाणी और मन।

कृष्ण कह रहे हैं कि जो भी कर्म करना हो उनको करते समय तीनों का मेल होना चाहिए। तभी जीवन में सफलता मिलेगी। इसी मिलन का नाम ध्यान है। हमारे गुरुओं ने माता पिता ने सबने हमको
Read 19 tweets
#मैं_हूं_भारत 🇮🇳

The Lingaraja temple is the largest temple in Bhubaneswar. The central tower of the temple is 180 ft (55 m) tall. The temple represents the quintessence of the Kalinga architecture and culminating the (1/6)

Full Video Link:
medieval stages of the architectural tradition at Bhubaneswar.[4] The temple is believed to be built by the kings from the Somavamsi dynasty, with later additions from the Ganga rulers. The temple is built in the Deula style that has four components namely, vimana (2/6)
(structure containing the sanctum), jagamohana (assembly hall), natamandira (festival hall) and bhoga-mandapa (hall of offerings), each increasing in the height to its predecessor. The temple complex has 50 other shrines and is enclosed by a large compound wall.
(3/6)
Read 6 tweets

Related hashtags

Did Thread Reader help you today?

Support us! We are indie developers!


This site is made by just two indie developers on a laptop doing marketing, support and development! Read more about the story.

Become a Premium Member ($3.00/month or $30.00/year) and get exclusive features!

Become Premium

Too expensive? Make a small donation by buying us coffee ($5) or help with server cost ($10)

Donate via Paypal Become our Patreon

Thank you for your support!