Discover and read the best of Twitter Threads about #ॐ_नमः_शिवाय

Most recents (10)

#मुरुदेश्वर_शिव_मंदिर_कर्नाटक
#Murdeshwar_ಮುರುಡೇಶ್ವರ
कंदुका टेकडीवर ०३ बाजूंनी पाण्याने
वेढलेले हे मुरुडेश्वर मंदिर भगवान
शिव यांना समर्पित आहे.येथे भगवान
शिवची स्वयं-लिंग स्थापित केली
गेली आहे,ज्याची कथा रामायण
काळाची आहे. अमरत्व मिळवण्या
साठी, रावण शिवला संतुष्ट करून
त्याच्या आत्म्याचा लिंग आपल्या
बरोबर लंकेत घेऊन जात होता.मग
मार्गावर पृथ्वीवर ठेवल्यामुळे या
ठिकाणी आत्मलिंगाची स्थापना
झाली.रागाच्या भरात रावणाने
त्याचा नाश करण्याचा प्रयत्न
केला या प्रक्रियेमध्ये आत्म लिंग
ज्या कपडाने लपविला गेला होता
तो मृदेश्वरमध्ये पडला, ज्याला
आता मुरुदेश्वर म्हणतात. याची
संपूर्ण कहाणी शिवपुराणात साप
डली आहे. राजा गोपुरा किंवा राज
गोपुरम हा जगातील सर्वोच्च गोपुरा
मानला जातो. 249 फूट उंच आहे.
हे स्थानिक व्यावसायिकाने बनवले
होते. जिवंत हत्तीइतक्या उंच हत्तींच्या
पुतळ्या गेटच्या दोन्ही बाजूस दिसू
Read 6 tweets
#Thread

रुद्री क्या है..?

रुद्री के बारे में हम सभी ने कहीं न कहीं सुना होगा कि इस शिव मंदिर में आज रुद्री या लघुरुद्र है। रुद्री ब्राह्मणों के साथ-साथ शिव उपासकों के लिए शिव को प्रसन्न करने का एक उत्कृष्ट पाठ है।

Cont 👇
रुद्री के बारे में कहा जाता है
"रुत द्रव्यति इति रुद्र"
अर्थात् रुत अर्थात दुःख और शोक का कारण, जो मिटा दे, नष्ट कर दे वह रुद्र है और ऐसे शिव के रुद्र रूप को प्रसन्न करने का मंत्र रुद्र है।

Cont 👇
वेदों में रुद्र के बारे में जो मंत्र हैं उन्हें शुक्ल यजुर्वेदीय, कृष्ण यजुर्वेदीय, ऋग्वेदीय मंत्र कहा गया है। सौराष्ट्र - शुक्ल यजुर्वेदिक रुद्र मंत्र गुजरात में अधिक प्रचलित हैं। रुद्र के इस भजन को अष्टाध्यायी कहा जाता है क्योंकि रुद्री में आठ मुख्य अध्याय हैं।

Cont 👇
Read 15 tweets
💝 ❄💝❄💝❄💝🏵💝
💝🕉️ #ॐ_नमः_शिवाय 🕉️💝
🕉️ 💝 #हर_हर_महादेव 💝 🕉️
💝 ❄💝❄💝❄💝🏵💝
❄💝❄💝❄💝🏵💝❄
भगवान शिव शंकरांची सेवा करतांना
भगवान शंकरांविषयी थोडी काळजी
बाळगण्याची गरज असते. उत्साहाच्या
भरात काही चुकीच्या अनुचित गोष्टी
आपल्या हातून घडततर नाहीत ना,
याकडे लक्ष देणे गरजेचे आहे.खाली
दिलेल्या या गोष्टी भगवान शंकरांला
कधीही अर्पण करु नका 👏
❄💝❄💝❄💝🏵💝❄
१. #शंख – शिवपुराणानुसार भगवान
शंकरांनी शंखचूड नावाच्या असूराचा
वध केला होता. तो भगवान विष्णूचा
भक्त असल्याने त्यांची आणि लक्ष्मी
ची शंखाने पूजा केली जाते.
Read 10 tweets
रुद्राभिषेक पाठ एवं इसके भेद:

पूरा संसार अपितु पाताल से लेकर मोक्ष तक जिस अक्षर की सीमा नही ! ब्रम्हा आदि देवता भी जिस अक्षर का सार न पा सके उस आदि अनादी से रहित निर्गुण स्वरुप ॐ के स्वरुप में विराजमान जो अदितीय शक्ति भूतभावन कालो के भी काल गंगाधर भगवान महादेव को प्रणाम करते है।
अपितु शास्त्रों और पुरानो में पूजन के कई प्रकार बताये गए है लेकिन जब हम शिव लिंग स्वरुप महादेव का अभिषेक करते है तो उस जैसा पुण्य अश्वमेघ जैसे यग्यों से भी प्राप्त नही होता ! स्वयं श्रृष्टि कर्ता ब्रह्मा ने भी कहा है की...

👇👇
जब हम अभिषेक करते है तो स्वयं महादेव साक्षात् उस अभिषेक को ग्रहण करने लगते है। संसार में ऐसी कोई वस्तु , कोई भी वैभव , कोई भी सुख , ऐसी कोई भी वास्तु या पदार्थ नही है जो हमें अभिषेक से प्राप्त न हो सके! वैसे तो अभिषेक कई प्रकार से बताये गये है। लेकिन मुख्या पांच ही प्रकार है 👇👇
Read 21 tweets
।। हरि ॐ।।
शिव के रुद्राभिषेक से होते हैं 18 आश्चर्यजनक लाभ, जरूर पढ़े..

रुद्र अर्थात भूतभावन शिव का अभिषेक। शिव और रुद्र परस्पर एक-दूसरे के पर्यायवाची हैं। शिव को ही 'रुद्र' कहा जाता है, क्योंकि रुतम्-दु:खम्, द्रावयति-नाशयतीतिरुद्र: यानी कि भोले सभी दु:खों को नष्ट कर देते हैं।
हमारे धर्मग्रंथों के अनुसार हमारे द्वारा किए गए पाप ही हमारे दु:खों के कारण हैं। रुद्रार्चन और रुद्राभिषेक से हमारी कुंडली से पातक कर्म एवं महापातक भी जलकर भस्म हो जाते हैं और साधक में शिवत्व का उदय होता है तथा भगवान शिव का शुभाशीर्वाद भक्त को प्राप्त होता है।
और उनके सभी मनोरथ पूर्ण होते हैं। ऐसा कहा जाता है कि एकमात्र सदाशिव रुद्र के पूजन से सभी देवताओं की पूजा स्वत: हो जाती है।

रुद्रहृदयोपनिषद में शिव के बारे में कहा गया है कि सर्वदेवात्मको रुद्र: सर्वे देवा: शिवात्मका अर्थात सभी देवताओं की आत्मा में रुद्र उपस्थित हैं..
Read 18 tweets
#Thread
महाशिवरात्रि विशेष

शिव.......जितना सरल उतना ही रहस्य पूर्ण।
जिसका न आदि है न ही कोई अंत.....
कभी मुख पर मुस्कान सजाए ध्यान धरे हुए वैरागी रूप , कभी क्रोध में भरकर तांडव करता रौद्ररूप और कहीं संसार की रक्षा के लिए विष पी जाने वाले भोलेनाथ...

Cont 👇
अद्भुत अवर्णनीय स्वरूप...
वैसी ही स्वंय में अद्भुत रहस्यों को समाए है शिवरात्रि।

शिव + रात्रि....... शिव के जप ,पूजन ,ध्यान का पर्व

जिस भी पर्व के साथ #रात्रि लगा हो तो स्पष्ट है उस रात्रि का समय आपने में विशेष महत्व को लिए हुए होगा ही.....जैसे #महाशिवरात्रि

Cont 👇
वर्ष की चार सिद्ध महारात्रियों में से एक रात्रि... जब शिवतत्व की उर्जा #चरम पर हो संसार को #दिव्यता की और ले जाती है। संसार के कल्याणार्थ ऐसे विशेष समय होते हैं जब प्रभु की आराधना भक्ति और साधना विशेष फल देने वाली होती है।

Cont 👇
Read 11 tweets
#HarHarMahadev to one & all!

Auspicious occasion of #𝗠𝗮𝗵𝗮𝘀𝗵𝗶𝘃𝗿𝗮𝘁𝗿𝗶𝟮𝟬𝟮𝟭 is just a day away.

Let's learn 𝟭𝟬 𝗶𝗻𝘁𝗲𝗿𝗲𝘀𝘁𝗶𝗻𝗴 𝗳𝗮𝗰𝘁𝘀 about
👉God #Shiva
👉Significance of #Mahashivratri
👉#Rudraksha etc.
in this informative thread

@SanatanSanstha
...
𝟭. 𝗪𝗼𝗿𝗱 #𝗦𝗵𝗶𝘃𝗮 (शिव) has been derived by reversing letters of the word ‘vash’ (वश्). Vash means to enlighten; hence, one who enlightens is Shiva. He illuminates the universe.

#Mahashivratri2021

Know spiritual meanings of His other names at sanatan.org/en/a/60.html
...
𝟮. 𝗗𝗼 𝘆𝗼𝘂 𝗸𝗻𝗼𝘄 𝘄𝗵𝘆 𝗚𝗼𝗱 #𝗦𝗵𝗶𝘃𝗮 𝗶𝘀 𝗲𝗻𝘃𝗲𝗹𝗼𝗽𝗲𝗱 𝘄𝗶𝘁𝗵 𝗮𝘀𝗵 𝗰𝗼𝗹𝗼𝘂𝗿?

Its difficult for devotees to tolerate the intense vibrations of God Shiva’s original white colour. So, the envelope

#Mahashivratri2021

@mariawirth1 @TheSanatanUday
...
Read 18 tweets
नमः शिवाभ्यामशुभापहाभ्यां 
अशेषलोकैकविशेषिताभ्यां |
अकुण्ठिताभ्यां स्मृतिसम्भृताभ्यां 
नमो नमः शङ्करपार्वतीभ्यां ‖ 

#सुप्रभात
#ॐ_नमः_शिवाय
#हर_हर_महादेव
🙏🙏🙏🙏🙏 Image
नमः शिवाभ्यां रथवाहनाभ्यां 
रवीन्दुवैश्वानरलोचनाभ्यां |
राकाशशाङ्काभमुखाम्बुजाभ्यां 
नमो नमः शङ्करपार्वतीभ्यां ‖

#ॐ_नमः_शिवाय
#हर_हर_महादेव
🙏🙏🙏🙏🙏 Image
नमः शिवाभ्यां जटिलन्धराभ्यां 
जरामृतिभ्यां च विवर्जिताभ्यां |
जनार्दनाब्जोद्भवपूजिताभ्यां 
नमो नमः शङ्करपार्वतीभ्यां ‖ 

#ॐ_नमः_शिवाय
#हर_हर_महादेव Image
Read 3 tweets
Il Mukti Gupteshwar Temple ll
in Minto, Australia

The 13th and the last Jyothirlinga was gifted to Australia in 1999 by the then King of Nepal -- the late Birendra Bir Bikram Shah Dev.

#हर____हर___महादेव #ॐ_नमः_शिवाय
Together with this was gifted 7996 hymns arranged in eight volumes especially to be sung in praise of this deity.

According to the scriptures, construction of this lingam had to be in the southern hemisphere which symbolised the 'mouth of the snake'...
the snake being like an ornament around Lord Shiva's neck. Hence Australia was chosen.

This temple's foundation was laid on Shivratri in 1999 in Minto -- Sydney's suburb.

Its uniqueness lies in the fact that it is the only cave temple to have been constructed by man.
Read 6 tweets
The auspicious month of Shravan dedicated to Lord Shiva.

Devotees keep a vrat(fast), perform austerities and do puja of Bholenath on Mondays.

Girls get a husband of their choice by keeping a vrat on Mondays for 16 weeks.

#हर_हर_महादेव
#sawan2020
#सावन
#भोलेनाथ
#ॐ_नमः_शिवाय
Benefits of keeping a vrat on Shravan Somwar

1) Since the month of Shravan is associated with the Samudra Manthan chapter mentioned in the ancient sacred texts, devotees express their gratitude to Lord Shiva by taking part in Kanwar Yatras.
They offer Gangajal to Lord Shiva to help him heal after he drank poison to save humanity. Therefore, by keeping a fast on Mondays, devotees please Lord Shiva to seek his countless blessings.
Read 9 tweets

Related hashtags

Did Thread Reader help you today?

Support us! We are indie developers!


This site is made by just two indie developers on a laptop doing marketing, support and development! Read more about the story.

Become a Premium Member ($3.00/month or $30.00/year) and get exclusive features!

Become Premium

Too expensive? Make a small donation by buying us coffee ($5) or help with server cost ($10)

Donate via Paypal Become our Patreon

Thank you for your support!