Discover and read the best of Twitter Threads about #Repost

Most recents (24)

जानिए क्या हुआ था 14 अगस्त 1947 की आधी रात को...

(नए मित्रों को जागरूक करने हेतु एक बार फिर ज्ञान की बात)

जनिए "ट्रांसफर ऑफ़ पावर एग्रीमेंट" क्या है?

आप सोच रहे होंगे कि 'सत्ता के हस्तांतरण की संधि' ये क्या है? आज पढ़िए सत्ता के हस्तांतरण की संधि (Transfer of Power (1/79)
Agreement) अर्थात भारत की स्वतंत्रता की संधि। ये इतनी भयावह संधि है कि यदि आप अंग्रेजों द्वारा सन 1615 से लेकर 1857 तक किये गए सभी 565 संधियों अथवा कहें कि षडयंत्र को जोड़ देंगे तो उस से भी अधिक भीषण और भयावह संधि है ये। 14 अगस्त 1947 की रात्रि को जो कुछ हुआ था वो (2/79)
वास्तव में स्वतंत्रता नहीं आई थी अपितु ट्रान्सफर ऑफ़ पॉवर का एग्रीमेंट हुआ था पंडित नेहरु और लोर्ड माउन्ट बेटन के बीच में। ट्रान्सफर ऑफ़ पॉवर और स्वतंत्रता ये दो अलग विषय हैं। स्वतंत्रता और सत्ता का हस्तांतरण ये दो अलग विषय हैं एवं सत्ता का हस्तांतरण कैसे होता है?
(3/79)
Read 83 tweets
भगवान श्री राम को 14 वर्ष का वनवास हुआ तो उनकी पत्नी माँ सीता ने भी सहर्ष वनवास स्वीकार कर लिया।

परन्तु बचपन से ही बड़े भाई की सेवा मे रहने वाले लक्ष्मण जी कैसे राम जी से दूर हो जाते! माता सुमित्रा से तो उन्होंने आज्ञा ले ली थी, वन जाने की.. परन्तु जब पत्नी उर्मिला के (1/14)
कक्ष की ओर बढ़ रहे थे तो सोच रहे थे कि माँ ने तो आज्ञा दे दी, परन्तु उर्मिला को कैसे समझाऊंगा!! क्या कहूंगा!! यदि बिना बताए जाऊंगा तो रो रोके जान दे देगी और यदि बताया तो साथ जाने की ज़िद्द करने लगेगी और कहेगी कि यदि सीता जी अपने पति के साथ जा सकती हैं तो मैं क्यों नहीं!!
(2/14)
यहीं सोच विचार करके लक्ष्मण जी जैसे ही अपने कक्ष में पहुंचे तो देखा कि उर्मिला जी आरती का थाल लेके खड़ी थीं और बोलीं, "आप मेरी चिंता छोड़ प्रभु की सेवा में वन को जाओ। मैं आपको नहीं रोकुंगीं। मेरे कारण आपकी सेवा में कोई बाधा न आये, इसलिये साथ जाने की जिद्द भी नहीं करूंगी।"
(3/14)
Read 16 tweets
सितम्बर २०१९ की पोस्ट

लोगो के मन मे एक डर है वो यह कि चीन सुपरपॉवर बन रहा है।

सालो पहले तक्षशिला का राजा बहुत शोरगुल करके अपनी दौलत शोहरत का बखान करता था। उसने सड़क पर निकलने वाली अपनी सवारी सोने चाँदी की बनवाई थी।

जब उसकी दौलत शोहरत का समाचार उज्जैन तक पहुँचा, उज्जैन (1/13)
के महान राजा विक्रमादित्य ने संदेश भेजा कि हमे तुम्हारा राज्य पसन्द है या तो अधीनता स्वीकार लो या उज्जैन से दो दो हाथ करो। तब वह राजा दौड़ता हुआ उज्जैन आया और विक्रमादित्य से अकेले में मिलकर पैर पकड़ लिए। उसने कहा कि तक्षशिला बर्बाद हो गया है बस प्रजा का मन रखने और दुनिया (2/13)
हमे कमजोर ना समझे इसलिए मैं प्रदर्शन करता हु।

यही राजा है शी जिनपिंग और विक्रमादित्य है डोनाल्ड ट्रंप उर्फ ट्रम्प चाचा।

हम सब जानते है कि चीन एक कम्युनिस्ट देश है मीडिया वही बताता है जो उसे सरकार कहती है। चीन की सरकार अपनी पब्लिसिटी पर जमकर खर्चा करती है। देश की क्या (3/13)
Read 16 tweets
सुनो लड़की।

गर्व हो रहा है तुम्हें देख कर, तुम्हें सुन कर, तुम्हें जानकर... सीना चौड़ा हो रहा है यह सोच कर कि तुम हमारे बीच की हो।

जानती हो, जिस न्यायालय ने मात्र दो पंक्तियों की एक पोस्ट के लिए तुम्हे यह अनैतिक सजा दी थी, वह पूरी तरह से अंधा है। इसी देश में रोज हजारों (1/12)
किताबें ऐसी छपती हैं जिनमे सनातन मान्यताओं की खिल्ली उड़ाई जाती है, हिन्दू देवी-देवताओं को गाली दी जाती है, हमारे पुरुखों को मूर्ख कहा जाता है। ऐसी किताबें रोज छपती हैं और उसी न्यायालय के सामने लोगों को बाँटी जाती हैं। देश को छोड़ो, जिस राँची में तुम्हें सजा दी गयी है न, (2/12)
उसी राँची में मिशनरियाँ रोज ऐसी हजारों अश्लील किताबें बाँटती हैं। क्या उससे हम आहत नहीं होते? क्या हमारी भावनाओं का कोई मूल्य नहीं? पर न्यायालय की इतनी भी हिम्मत नहीं है कि उन ईसाइयों से एक प्रश्न तक पूछ दे... स्वतंत्रता के पचहत्तर वर्षों बाद तक वेटिकन चर्च के भय में जीने (3/12)
Read 14 tweets
स्तब्ध कर देने वाला खुलासा...

कर्नल पुरोहित का पाक में जासूसी नेटवर्क इतना मजबूत था कि आतंकी हाफिज सईद और लख्वी तक उनसे डरते थे।

कर्नल पुरोहित 9 साल बाद नवी मुंबई की तालोजा जेल से रिहा हो गए हैं। उनकी रिहाई के बाद कई खुलासे सामने आ रहे हैं जिसे डाटा वैज्ञानिक गौरव प्रधान (1/24)
ने किया है। डॉक्टर गौरव प्रधान ने कई बड़े नेताओं पर बेहद संगीन आरोप लगाए हैं, जिनकी सत्यता की जांच की जानी बेहद जरूरी हो गयी है।

सोनिया गाँधी और हाफिज सईद की मुलाकात:-

डॉक्टर प्रधान ने खुलासा किया है कि 2010 में सोनिया गाँधी और हाफिज सईद की मुलाकात होनी थी। पाकिस्तानी (3/24)
आतंकी हाफिज सईद इटालियन माता से 2010 में मिलना चाहता था, मगर इटालियन माता ने इंकार कर दिया क्योंकि इसमें काफी रिस्क था। वैसे सोनिया गांधी की आतंकियों से हमदर्दी कोई नयी बात नहीं है, इससे पहले पूर्व कानून मंत्री सलमान खुर्शीद भी आजमगढ़ की चुनावी रैली में कबूल कर चुके हैं (3/24)
Read 26 tweets
#Repost
✍Gus Nadirsyah H.

Keistimewaan Nabi Muhammad: Akhlak, Akhlak, Akhlak

Seperti seorang ratu dalam film Snow White (Putri Salju) yang bertanya ke cermin ajaib siapa yang paling cantik, sejarah peradaban manusia pun bertanya-tanya siapakah yang paling rupawan atau tampan.
Tidak hanya kisah kanak-kanak, bahkan seorang filosof seperti Nietzsche pun menulis Thus Spoke Zarathustra yang bicara mengenai konsep ‘manusia unggul’ (Übermensch) yang lebih dari lainnya.
Ini sekali lagi mengingatkan kita pada komik yang kemudian difilmkan mengenai ‘manusia baja’ alias Superman. Berasal dari planet di luar bumi dan memiliki kekuatan super di atas kemanusiaan penduduk bumi.
Read 39 tweets
#Repost 

16 Juni 2016

Artikel menarik dari sdr. Muhammad Musa (Muzawir)

~AMAR MAKRUF NAHI MUNKAR~

Amar makruf nahi munkar itu artinya ialah “menyuruh” dan “melarang”. Misi ini punya dua level; personal dan komunal.
Pada level personal, setiap Muslim berkewajiban menjalankan misi ini, namun sebatas ekspresi hati dan lisan, bukan tangan alias main kepruk, sebab justru beresiko dikepruk – entah dirinya atau teman dan komunitasnya- karena posisinya lemah, dan lalu mati konyol.
Islam tidak menghendaki orang mati konyol. Ini bukan bela diri. Bela diri, kalaupun mati, matinya tidak akan pernah disebut konyol.
Read 10 tweets
#Repost

Habib Ahmad bin Novel bin Salim Bin Jindan dlm salah satu ceramahnya di Istana Negara, menegaskan keharusan seorang muslim u/ menampilkan akhlak yg baik dgn bertutur kata sopan, tidak mengandung unsur cacian atau makian kepada sesama umat muslim maupun umat agama lain.
Cara santun seperti itu merupakan ciri seorang muslim sebagaimana telah dicontohkan Nabi Muhammad SAW dalam setiap dakwahnya.
Seorang Habib yang dikenal karena keramahannya itu mengisahkan, ketika Nabi dalam keadaan berperang dan banyak sahabat yang terbunuh, ...
... banyak sahabat yang bersikeras untuk mencaci dan mengutuk kaum kafir yang telah memerangi umat Islam. Namun demikian, Nabi melarangnya, dan mengatakan bahwa tujuan Nabi diutus ke dunia bukan sebagai pencaci maki atau pelaknat, melainkan sebagai penebar kasih sayang.
Read 9 tweets
#Repost

Benarkah Nabi Sering Melaknat?

Sebagian saudara kita memang gemar sekali mengutip riwayat seolah Nabi itu suka emosian, pemarah dan gemar melaknat. Mereka hendak mencari pembenaran terhadap kelakuan buruk mereka lantas dinisbatkan kepada Nabi. Na’udzubillah.
Nabi Muhammad Saw itu ma’shum dan dijaga Allah. Itu sebabnya Allah mendidik Nabi langsung dengan pengajaranNya berupa ayat al-Quran. Maka akan berbahaya kalau kita memotong riwayat hadits dan tidak menjelaskan pandangan ulama tentang hadits itu, dan langsung menyimpulkan sendiri.
Ini Hadits lengkapnya dalam kitab Shahih Bukhari

- حَدَّثَنَا مُوسَى بْنُ إِسْمَاعِيلَ حَدَّثَنَا إِبْرَاهِيمُ بْنُ سَعْدٍ حَدَّثَنَا ابْنُ شِهَابٍ عَنْ سَعِيدِ بْنِ الْمُسَيَّبِ وَأَبِي سَلَمَةَ بْنِ عَبْدِ الرَّحْمَنِ عَنْ أَبِي هُرَيْرَةَ رَضِيَ اللَّهُ عَنْهُ
Read 18 tweets
#JumatBerkah
#Repost
✍Gus @na_dirs
Gestur santri ketika menghadap para Kiai itu lebih powerfull dari sekian kata-kata.  Kepala ditundukkan, badan membungkuk, pandangan ke bawah tak berani mengangkat wajah dan diam menyimak nasehat, atau bahkan teguran, para Kiai.
Tak ada perdebatan. Tak ada suara meninggi. Tak ada kata-kata merendahkan apalagi mencemooh. Semuanya dilandasi kasih sayang. Para Kiai adalah guru dan sekaligus orang tua kita.
Anda boleh seorang penceramah terkenal, atau seorang guru besar sekalipun, atau pengusaha dan penguasa, namun saat sowan kepada para masyayikh, gestur anda menunjukkan siapa jati diri sebenarnya.
Read 4 tweets
Haji dan Zikir Bersama Prof. KH. Ibrahim Hosen

Bulan Desember lalu saya bertemu dengan Prof. Dr. H. Syahrin Harahap
di Sydney. Guru besar UIN Sumatera Utara itu langsung ngobrol akrab dengan saya begitu diberitahu oleh yang lain siapa Abah saya, Prof. Syahrin ...
....
... kemudian bercerita saat mengambil kuliah pasca di IAIN Jakarta (sebelum jadi UIN). Kebetulan rumah dinas Abah saya memang persis berada di depan gedung pasca sarjana.
Prof. Syahrin mengenang obrolan dengan Abah akan dua hal. Pertama, salah satu rahasia mengapa haji itu hanya wajib sekali, itu agar kita bisa belajar melaksanakan substansi ibadah haji dalam ibadah yang lainnya, saat shalat, zakat dan puasa.
Read 12 tweets
fiqhmenjawab.net ~ Saat saya menjelaskan proses panjang sejarah kodifikasi al-Qur’an, sejumlah pihak banyak yang kaget. Mereka tahunya hanya produk akhir berupa mushaf al-Qur’an yang sekarang kita pegang.
Mereka tidak menyangka bahwa tanda baca, pembagian 30 juz, bahkan ilustrasi di pinggiran mushaf itu tidak ada di jaman Nabi Muhammad SAW.
Begitu juga ketika saya menjelaskan perbedaan tanda berhenti di sebuah potongan ayat akan melahirkan perbedaan pandangan ulama, ...
... sebagian menuduh saya mengada-ngada bahkan ada yang menyebut saya professor tolol atau kiai sesat. Saya terpaksa mencantumkan teks asli dari berbagai kitab tafsir klasik kepada mereka untuk membuktikan bahwa perdebatan itu sudah berlangsung sejak ribuan tahun yang lalu.
Read 25 tweets
यूपी में कांग्रेस का बड़ा पेड़ गिर गया... गांधी परिवार की जमीन हिल गई।

जितिन प्रसाद... कभी कभी ऐसा होता है कि जब कोई हीरे जैसी चमकती हुई चीज कबाड़खाने में पड़ी हो तो उसकी कोई कीमत ही नहीं रह जाती है... ठीक ऐसा ही हुआ था जिति प्रसाद के साथ... एक ऐसा मजबूत नेता जो (1/9)
कांग्रेस में पड़ा पड़ा जंग खा रहा था।

जितिन प्रसाद का यूपी चुनाव के ठीक पहले बीजेपी में शामिल होना... बीजेपी के लिए बहुत बड़ी कामयाबी है... क्योंकि जितिन प्रसाद कांग्रेस की तरफ से ब्राह्मण चेहरा थे... ना सिर्फ ब्राह्मण चेहरा थे... बल्कि ये वो नेता हैं जिन्होंने पूरे यूपी (2/9)
में तमाम ब्राह्मण संगठन खड़े किए थे... और ना सिर्फ ब्राह्मणों के संगठन ही खड़े किए... बल्कि योगी को सुनियोजित तरीके से बदनाम करने की कोशिश भी की थी कि योगी जी ब्राह्मणों के विरोधी हैं...

लेकिन अब जब ब्राह्मण विरोध का प्रोपागेंडा चलने वाले जितिन प्रसाद ही बीजेपी के साथ और (3/9)
Read 11 tweets
बिट्टा कराटे उर्फ़ फ़ारुख दर वह कश्मीरी आतंकी है जिसने आन कैमरा यह स्वीकार किया था कि उसने 22 कश्मीरी पंडितों की हत्या के बाद, की जाने वाले हत्याओं को गिनना छोड़ दिया था! लेकिन माना जाता है कि बिट्टा कराटे ने अकेले 42 कश्मीरी हिंदुओं की निर्मम कोल्ड ब्लडेड हत्याएं (1/7)
की थी! इसमें एक महिला कश्मीरी पंडित नर्स भी थी जिसे बिट्टा ने शेरे कश्मीर मेडिकल कालेज के अंदर मारा था! बिट्टा ने कई दुधमुँहे शिशुओं को मौत के घाट उतारा! बिट्टा द्वारा की गई पहली हत्या के शिकार श्रीनगर के आरएसएस कार्यकर्त्ता सतीश टिक्कू थे! बिट्टा कराटे और यासीन मलिक (2/7)
मिलकर आतंकी वारदातें करते थे! यासीन मलिक भी चार वायुसैनिकों सहित अनेक हत्याओं का आरोपी है! और आज दोनों ही श्रीनगर में VIP की तरह रहते हैं!

दरअसल पोस्ट इसलिए लिखी गई है कि बिट्टा कराटे जैसे नरपिशाच, कश्मीरी पंडितों के हत्यारे को छुड़ाने में मुख्य किरदार एक कश्मीरी (3/9)
Read 10 tweets
-URBAN LEGEND DAN SEJARAH-
#Repost @gisbianperdana
——
gisbianperdana Pada bulan Oktober 1933 pembangunan jalan oleh Dinas Kehutanan (Boschwezen) melalui hutan purba di selatan Taman Hidup dimulai, dengan lebar 4 m dan panjang 9 km telah dibangun dan selesai pada bulan Juli 1934.
Melewati Sirompot, jalan itu sangat baik untuk bisa dilewati mobil sampai ke perbatasan hutan. Tujuan dibangunnya jalan hutan ini adalah agar dapat mengangkut kayu secara sederhana dan murah.
Read 9 tweets
#repost @escurecendofatos
@lolaescreva
AVISO GATILHO
URGENTE: POLÍCIA TORTURA E MATA HOMEM A LUZ DO DIA EM SERGIPE.

UM HOMEM NEGRO COM PROBLEMAS MENTAIS GRITA DE DESESPERO NO PORTA-MALAS DO CARRO DA PRF EM UMBAÚBA-SE, hoje 25, O HOMEM FOI SUFOCADO NO PORTA-MALAS COM GÁS...👇
LACRIMOGÊNEO PELOS POLÍCIAIS.

O QUE ACONTECE EM SERGIPE JÁ PASSOU DE TODOS OS LIMITES! NÃO EXISTE JUSTIFICATIVA PARA A TORTURA REGISTRADA NO VÍDEO!

SEGUNDO INFORMAÇÕES O HOMEM MORREU NO HOSPITAL.

A DITADURA NÃO ACABOU E EM SERGIPE MORRE GENTE TODO DIA PELA POLÍCIA, NÃO...👇
MORRE GENTE TODO DIA PELA POLÍCIA, NÃO IMPORTA ELA QUAL SEJA, ELA SÓ MATA PRETO E POBRE, É ISSO QUE VARIAS FAMILIAS TEM QUE PASSAR DIARIAMENTE NO CAOS DESSE PEQUENO ESTADO.

SE ISSO FOI FEITO EM PÚBLICO E GRAVADO IMAGINE O QUE SÃO CAPAZES DE FAZER SOZINHOS?

DENUNCIEM 👇
Read 4 tweets
O surto de hepatite em crianças, que já provocou mais de 300 casos pelo mundo, segundo a Organização Mundial da Saúde (OMS), continua a intrigar especialistas que ainda não descobriram a causa da inflamação no fígado. Image
Embora a hipótese mais comum seja de que um adenovírus – patógeno que causa resfriados comuns – esteja por trás da doença, ainda não se sabe por que esses agentes rotineiros estariam provocando uma consequência tão grave e inesperada.
Pesquisadores do Imperial College de Londres e do Centro Médico Cedars Sinai publicaram na revista The Lancet Gastroenterology & Hepatology que aponta uma resposta, e reforça a teoria de que uma infecção prévia pelo Sars-CoV-2, vírus causador da Covid-19, pode estar envolvida.
Read 6 tweets
देश का सबसे बड़ा बलात्कार कांड

सन् 1992 लगभग 25 साल पहले सोफिया गर्ल्स स्कूल अजमेर की लगभग 250 से ज्यादा हिन्दू लडकियों का रेप जिन्हें लव जिहाद/प्रेमजाल में फंसा कर, न केवल सामूहिक बलात्कार किया।

बल्कि हर लड़की का रेप कर उसकी फ्रेंड/भाभी/बहन आदि को लाने को कहा, एक पूरा (1/21) ImageImageImageImage
रेप चेन सिस्टम बनाया जिसमें पीड़ितों की न्यूड तस्वीरें लेकर उनका व्यावसायिक रूप से प्रयोग भी किया गया।

फारूक चिश्ती, नफीस चिश्ती और अनवर चिश्ती, इस बलात्कार कांड के मुख्य आरोपी थे जो कांग्रेस के कद्दावर नेता भी थे।

ये वही लोग थे, जिन पर ख्वाजा चिश्ती दरगाह की देखरेख (2/21) ImageImageImageImage
की जिम्मेदारी थी। ये वही लोग थे, जो ख़ुद को चिश्ती का वंशज मानते हैं। उन पर हाथ डालने से पहले प्रशासन को भी सोचना पड़ता। अंदरखाने में बाबुओं को ये बातें पता होने के बावजूद इस पर पर्दा पड़ा रहा। फारूक चिश्ती ने सोफिया गर्ल्स स्कूल की 1 हिन्दू लड़की को प्रेमजाल में फंसा (3/11) ImageImageImage
Read 23 tweets
मोदी सरकार में बहुत सी खामियां हो सकती हैं। मैं उन जाहिलों में से नहीं जो दिनरात मोदी जी को गाली देते रहते हैं। अगर कोई गलत बात होगी, सबसे आगे बढ़ कर आक्रामक तरीके से विरोध करूँगा। मैं कोरोनिल किट छाप मेरा भारत भेरी महान वाले मूर्खों में से नहीं हूँ।

पर इस विश्वव्यापी (1/5)
आपदा का ठीकरा मोदी के सर पर फोड़ना, ऊपर से संवेदनहीनता दिखाना और अंदर मन ही मन लड्डू फूटना वह पाप है, वामपंथी जिसके अपने आका लेनिन और स्टालिन के समय से अभ्यस्त हैं।

ईश्वर की अपरम्पार कृपा है कि हमारे देश में सिर्फ राहुल, ममता और स्टालिन ही नहीं; मोदी, पूनावाला, अडानी और (2/5)
अम्बानी भी हैं।

आप लोग दिनरात पूँजीपतियों को कोसते नहीं थकते, पर आपको यह देखकर शर्म नहीं आती कि टीका कम्युनिस्ट पार्टी के दफ्तर में नहीं, एक पूँजीपति के कारखाने में बन रहा है। अपने खर्चे और अपने जोखिम पर एक उद्यमी टीका बना रहा है। आप लोगों का उसमें एक धेले का योगदान (3/5)
Read 7 tweets
तहर्रूश (सार्वजनिक बलात्कार) चुस्लाम द्वारा
यह सम्पूर्ण सत्य है। विकिपीडिया में देख सकते !

यदि आप चुस्लाम को जानते हैं, तो इसके एक खेल हाँ खेल के बारे में नहीं जानते तो शायद चुस्लाम को कम जानते है। चलिये हम आपको इस चुस्लामिक खेल के सैर पर ले चलते हैं...! इस यात्रा में यदि (1/8)
कोई चुस्लाम का जानकार मिले तो उसके विचार का स्वागत होगा...!

#तहर्रूश_गेमिया

तहर्रूश (चुस्लामिक सार्वजनिक ब्लात्कार) अरब के देशों में खेला जाने वाला एक निहायत ही घिनौना व अमानवीय खेल हैं, वहाँ पर इसे "तहर्रूश गेमिया" के नाम से जाना जाता हैं, जिसमें परम्परा के नाम पर किया (2/8)
जाता हैं शिकार। यह कोई पशुओं का शिकार नहीं, इसमे किसी "गैर चुस्लिम लड़की का शिकार/बलात्कार" भीड़ में सामूहिक रूप में किया जाता हैं।

सार्वजनिक स्थलों पर एक अकेली गैर चुस्लिम लड़की पर २०० से २५० लोगों की भीड़ टूट पड़ती हैं। इसमें न केवल उसे यौन रूप से प्रताड़ित किया जाता (3/8)
Read 10 tweets
इस्लाम वन वे ट्रैफ़िक

इस्लाम में प्रेम मतलब धर्मपरिवर्तन!

मंसूर अली खान पटौदी से शादी करने से पहले शर्मिला टैगोर ने इस्लाम कबूल किया था, जिसके बाद शर्मिला का नाम रखा गया आएशा बेगम! प्यार सच्चा था तो इस्लाम कबूल करवाने की जिद किस लिए? और अगर इस्लाम कुबूल कर ही लिया है (1/33)
तो खुद को शर्मिला टैगोर कहने की जिद किसलिए?

अक्सर हिन्दुओं और बाकी विश्व को मूर्ख बनाने के लिये मुस्लिम और सेकुलर विद्वान(?) यह प्रचार करते हैं कि कम पढ़े-लिखे तबके में ही इस प्रकार की तलाक की घटनाएं होती हैं, जबकि हकीकत कुछ और ही है। क्या इमरान खान या नवाब पटौदी कम (2/33)
पढ़े-लिखे हैं? तो फ़िर नवाब पटौदी, रविन्द्रनाथ टैगोर के परिवार से रिश्ता रखने वाली शर्मिला से शादी करने के लिये इस्लाम छोड़कर हिन्दू क्यों नहीं बन गये? सैफ़ अली खान को अमृता सिंह से इतना ही प्यार था तो सैफ़ हिन्दू क्यों नहीं बन गया? अब अमृता सिंह को बेसहारा छोड़कर करीना (3/33)
Read 35 tweets
हलाला वह प्रथा है, जिसमें कोई तलाक़शुदा महिला अपने पहले पति के पास दोबारा तब जा सकती है, जब उसका किसी दूसरे पुरुष से निकाह हो और वह पुरुष हमबिस्तर होने के बाद उसे तलाक़ दे। वैसे तो हलाला मर्दों को सज़ा देने के नाम पर बनाया गया क़ानून है, पर इसने स्त्री को (1/8)
भोगने की वस्तु बना दिया है।

शौहर नियाज़ द्वारा बिना किसी जायज़ वजह के तलाक़ दी गई नज़राना को उसके ससुरालवाले दोबारा बहू बनाकर अपने घर लाना चाहते हैं। लेकिन इसके लिए उन्हें शरिया क़ानून की वह शर्त पूरी करनी है, जिसे हलाला कहा जाता है। इस शर्त को पूरी करने के लिए उसकी (2/8)
शादी करा दी जाती है पड़ोस में रहनेवाले डमरू से। चार भाइयों में सबसे छोटा डमरू, अविवाहित है। काले रंग का होने के चलते उसे कलसंडा कहकर बुलाया जाता है। घर में उसकी ज़्यादा क़द्र नहीं है। तीन भाभियों में दो तो चाहती हैं कि उसकी शादी ही न हो, ताकि ज़मीन- जायदाद का एक और (3/8)
Read 10 tweets
जब मायावती ने मुलायम से कान पकड़ कर उठक-बैठक करवाई तो सपाई गुंडे मायावती की हत्या पर आमादा हो गए।

तथ्य यह भी दिलचस्प है कि अपने को सेक्यूलर चैंपियन बताने वाले मुलायम सिंह यादव पहली बार 1977 में जब मंत्री बने तो जनता पार्टी सरकार में बने जिसमें जनसंघ धड़ा भी शामिल था। (1/20)
मुलायम सहकारिता मंत्री थे, कल्याण सिंह स्वास्थ्य मंत्री, रामनरेश यादव मुख्य मंत्री। फिर सेक्यूलर मुलायम सिंह यादव पहली बार भाजपा के समर्थन से ही मुख्य मंत्री बने थे। लेकिन बिहार में आडवाणी की रथ यात्रा रोकने और गिरफ़्तारी के बाद भाजपा ने केंद्र में विश्वनाथ प्रताप सिंह (2/20)
सरकार से भाजपा ने समर्थन वापस ले लिया। विश्वनाथ प्रताप सिंह की सरकार गिर गई थी।

तथ्य यह भी महत्वपूर्ण है कि सेक्यूलर फ़ोर्स के ठेकेदार वामपंथी और भाजपा दोनों एक साथ थे विश्वनाथ प्रताप सिंह की सरकार को समर्थन देने में। यह जनता दल की सरकार थी। मुलायम सिंह भी जनता दल सरकार (3/20)
Read 22 tweets
मोदी और शाह राजनीति के बहुत बड़े खिलाड़ी लेकिन धूर्तता में केजरीवाल, मोदी और शाह से बहुत आगे हैं।

मोदी और शाह राजनीति के बहुत बड़े खिलाड़ी हैं, पर जहां तक धूर्तता का सवाल है, जिसे अंग्रेजी में स्मार्टनेस कहते हैं, तो केजरीवाल उन दोनों से बहुत आगे हैं। (1/10)
इसका सबसे बड़ा सबूत तो यही है कि पिछले छह सालों में यह उन दोनों की जोड़ी को दो बार बुरी तरह पटखनी दे चुका है। पिछले एक साल में ही केजरीवाल ने मोदी-शाह की नाक में इस तरह दम कर दिया कि उन्हें एनजीसीटीडी ऐक्ट २०२१ जैसा विवादित कानून बनाने पर विवश होना पड़ा। मोदी (2/10)
सामान्यतया विवादों से दूर ही रहना पसन्द करते हैं और उन्हें ऐसे विवाद में पड़ना पड़ा है, यह केजरीवाल के लिए एक छोटी-मोटी जीत (minor victory) कही जा सकती है। शतरंज खेलने वाले इसे अच्छी तरह समझ सकते हैं। जब भी आप विपक्षी को अपनी योजना बदलने और उसे अपने सुरक्षित (3/10)
Read 11 tweets

Related hashtags

Did Thread Reader help you today?

Support us! We are indie developers!


This site is made by just two indie developers on a laptop doing marketing, support and development! Read more about the story.

Become a Premium Member ($3.00/month or $30.00/year) and get exclusive features!

Become Premium

Too expensive? Make a small donation by buying us coffee ($5) or help with server cost ($10)

Donate via Paypal Become our Patreon

Thank you for your support!