अभिषेक सिंह Profile picture
सकारात्मक सोचो, सकारात्मक रहो
अभिषेक सिंह Profile picture 1 added to My Authors
8 Mar
F16 के जमीदोज होते ही अमेरिका को पता चल गया था। भारत पर इसके इस्तेमाल से अमेरिका गुस्से में था। पर उस समय ये भी जरुरी था कि पाक को भारत के गुस्से से बचाना। क्योकि भारत का एक पायलट पाक कब्जे में जाते ही भारत ने बड़ी कार्यवाई के लिये ब्रम्होस मिसाइलें तैयार कर ली थी। प्लान यही
था कि पाकिस्तान एयर फोर्स को रात में ही तहस नहस कर दिया जाये। जिसकी भनक अमेरिका को लग गयी।

अमेरिका ने तुरन्त पाकिस्तान को चेता दिया कि कब्जे में रखे भारत के पायलट को कोई नुक्सान नहीं होना चाहिये, नहीं तो भारत को रोकना नामुमकिन होगा, और चेताया कि युद्घ की स्थिति में वो F16 के
इंजन को लॉक कर देगा। भारत की सम्भावित कठोर कार्यवाई से घबराये खुद बाजवा ने UAE से बात की ,और उधर अमेरिका ने अरब और रूस से बात की। अरब ने भारत से एक रात रुकने की सलाह दी। अरब ने करीब दोपहर में ही Pmo नयी दिल्ली से सम्पर्क साध लिया था और पाक को फटकार लगायी। रूस, अमेरिका ने पाक
Read 5 tweets
11 Feb
पाण्डव पाँच भाई थे जिनके नाम हैं:
1.युधिष्ठिर
2.भीम
3.अर्जुन
4.नकुल
5.सहदेव
(इन पांचों के अलावा,महाबली कर्ण भी कुंती के ही पुत्र थे,परन्तु उनकी गिनती पांडवों में नहीं की जाती है)
यहाँ ध्यान रखें कि पाण्डु के उपरोक्त पाँचों पुत्रों में से युधिष्ठिर,भीम और अर्जुन की माता कुंती थी
तथा नकुल और सहदेव की माता माद्री थी।
वहीँ धृतराष्ट्र और गांधारी के सौ पुत्र थे।
कौरव कहलाए जिनके नाम हैं:
1.दुर्योधन
2.दुःशासन
3.दुःसह
4.दुःशल
5.जलसंघ
6.सम
7.सह
8.विंद
9.अनुविंद
10.दुर्धर्ष
11.सुबाहु
12.दुषप्रधर्षण
13.दुर्मर्षण
14.दुर्मुख
15.दुष्कर्ण
16.विकर्ण
17.शल
18.सत्वान
19.सुलोचन
20.चित्र
21.उपचित्र
22.चित्राक्ष
23.चारुचित्र
24.शरासन
25.दुर्मद
26.दुर्विगाह
27.विवित्सु
28.विकटानन्द
29.ऊर्णनाभ
30.सुनाभ
31.नन्द
32.उपनन्द
33.चित्रबाण
34.चित्रवर्मा
35.सुवर्मा
36.दुर्विमोचन
37.अयोबाहु
38.महाबाहु
39.चित्रांग
40.चित्रकुण्डल
41.भीमवेग
42.भीमबल
43.बालाकि
Read 25 tweets
9 Feb
__________________________________

लड़कियाँ तो राज़ है।
शर्माना, इठलाना, छुपाना,
इसके अलावा और कोई काज है?

सहनशीलता की मूरत,
होती बहुत खूबसूरत।

खुद की खूबसूरती पर,
इन्हें बड़ा नाज़ है।
लड़कियाँ तो राज है।।

माँ की छाया,
दीवानों की माया।
पापा की परी,
हैवानों की फुलझड़ी।।

फिर भी वो घर की लाज़ है,
लड़कियाँ तो राज़ है।

वे क्या हैं, नही जानता।
उनकी दुःख व्यथा सुनो,
थोड़ी करुण कथा सुनो।।

अभी तक भाई के लिए,
खुशियाँ छोड़ती आई।
पति के कहने से,
दोस्ती तोड़ती आई।
कॉलेज की दुरी देख,
पढ़ाई भी रोक दिया।
परिवार की इज्जत ख़ातिर,
स्वयं को अग्निकुंड में झोंक दिया।।

फिर भी मुस्काती,
गज़ब उनका अंदाज़ है।
लड़कियाँ तो राज़ है।।

सबके वाबजूद,
सहती प्रताड़ना,
हैवानों का करती सामना,
बनाई जाती वस्तु,
और वो पूर्ण करते कामना।।

फिर भी शांत उनकी आवाज़ है।
Read 4 tweets
9 Feb
1. वीर सावरकर पहले क्रांतिकारी देशभक्त थे जिन्होंने 1901 में ब्रिटेन की रानी विक्टोरिया की मृत्यु पर नासिक में शोकसभा का विरोध किया और कहा कि वो हमारे शत्रु देश की रानी थी, हम शोक क्यूँ करें?

क्या किसी भारतीय महापुरुष के निधन पर ब्रिटेन में शोक सभा हुई?
2. वीर सावरकर पहले देशभक्त थे जिन्होंने एडवर्ड सप्तम के राज्याभिषेक समारोह का उत्सव मनाने वालों को त्र्यम्बकेश्वर में बड़े बड़े पोस्टर लगाकर कहा था कि गुलामी का उत्सव मत मनाओ!

3. विदेशी वस्त्रों की पहली होली पूना में 7 अक्तूबर 1905 को वीर सावरकर ने जलाई थी!
4. वीर सावरकर पहले ऐसे क्रांतिकारी थे जिन्होंने विदेशी वस्त्रों का दहन किया, तब बाल गंगाधर तिलक ने अपने पत्र केसरी में उनको शिवाजी के समान बताकर उनकी प्रशंसा की थी जबकि इस घटना की दक्षिण अफ्रीका के अपने पत्र ‘इन्डियन ओपीनियन’ में गाँधी ने निंदा की थी!
Read 18 tweets
6 Feb
अगर सरकार आसानी से कृषि कानून रद्द कर दे तो ये समंजस में पड़ जाएंगे आंदोलन को आगे बढ़ाने के लिए इसीलिए इनकी दूसरी मांग होगी कि सबसे पहले उग्रवादियों और वामपंथियों को रिहा किया जाए क्योंकि इस आंदोलन में वामपंथी भी शामिल है इसलिए वो अपने नेताओं को छुड़वाएंगे सोचिए अगर सरकार ने ये
मांग भी आसानी से पूरी कर दी तो क्या आंदोलन बंद होगा जवाब नहीं
इसलिए अब इनकी तीसरी मांग होगी कि CAA रद्द हो और उस समय जो दंगे हुए थे उन आरोपियों को रिहा किया जाए और अगर वो मांग भी पूरी हो जाए तो क्या आंदोलन बंद होगा जवाब नहीं
इसलिए अब इनकी चौथी मांग होगी कि धारा 370 वापस लाया
जाए और क्योंकि जो बिल संसद में पास हुआ था कृषि कानून वो वापस हुआ तो इसे वापस लेना पड़ेगा और CAAको भी
और फिर हो सकता है ये आन्दोलन तब तक चले जब तक पंजाब एक अलग खालिस्तान न बन जाए
और फिर मान लीजिए सरकार ने ये सब मान लिया तो हमारा क्या होगा भारत का क्या होगा हो सकता है ये आन्दोलन
Read 5 tweets
29 Jan
हम कायर है,,
हम सोये है,,
हम चुप रहने में खोए है,,,

भले तिरंगे कितने उखड़े
भले दरिंदे कितने भड़के
हम अपना मुह बन्द रखेंगे
हम कायर है हम ना बोलेंगे,,,

हम मस्त है अपनी मस्ती में
हम व्यस्त है अपनी हस्ती में
हमको क्या लेना बस्ती में
हम चाहे सबकुछ सस्ती में

हमको क्या करना देश से
हमको क्या करना धर्म से
ना करना कुछ देवालय से
अपना सब कुछ मदिरालय से

हम बीती बाते भूलेंगे
हम सच इतिहास ना जानेंगे
हम झूठ को ही सच मानेंगे
हम झूठ का साथ निभायेंगे
हम कायर है हम डरते है
हम अपने आप पे मरते है
ना कोई स्वाभिमान हमे
बस झूठा है अभिमान हमे

ना किसी बात की शर्म हमे
ना किसी बात का गर्व हमे
हम बौनों से भी बौने है
शत्रु के हाथ खिलौने है

चाहे उजड़े ये देश मेरा
या टूटे श्रद्धा का डेरा
मैं अपने रैन बसेरे में
तोता मैना के जोड़े में
Read 5 tweets
15 Jan
1. #लियो_टॉल्स्टॉय (1828 -1910):
"हिन्दू और हिन्दुत्व ही एक दिन दुनियाँ पर राज करेगा, क्योंकि इसी में ज्ञान और बुद्धि का संयोजन है"।

2. #हर्बर्ट_वेल्स (1846 - 1946):
" हिन्दुत्व का प्रभावीकरण फिर होने तक
अनगिनत कितनी पीढ़ियां अत्याचार सहेंगी और जीवन कट जाएगा, तभी एक दिन पूरी दुनियाँ उसकी ओर आकर्षित हो जाएगी, उसी दिन ही दिलशाद होंगे और उसी दिन दुनियाँ आबाद होगी सलाम हो उस दिन को "।

3.#अल्बर्ट_आइंस्टीन (1879 - 1955):
"मैं समझता हूँ कि हिन्दूओ ने अपनी बुद्धि और जागरूकता के
माध्यम से वह किया जो यहूदी न कर सके । हिन्दुत्व मे ही वह शक्ति है जिससे शांति स्थापित हो सकती है"।

4. #हस्टन_स्मिथ (1919):"जो विश्वास हम पर है और इस हम से बेहतर कुछ भी दुनियाँ में है तो वो हिन्दुत्व है । अगर हम अपना दिल और दिमाग इसके लिए खोलें तो उसमें हमारी ही भलाई होगी"।
Read 7 tweets
4 Jan
अकबर अपने गंदे इरादों से प्रतिवर्ष दिल्ली में नौरोज़ का मेला आयोजित करवाता था....!
इसमें पुरुषों का प्रवेश
निषेध था....!
अकबर इस मेले में महिला की वेष-भूषा में जाता था और जो महिला उसे मंत्र मुग्ध कर देती....
उसे दासियाँ छल कपट से अकबर के सम्मुख ले जाती थी....!
एक दिन नौरोज़ के मेले में महाराणा प्रताप सिंह की भतीजी, छोटे भाई महाराज शक्तिसिंह की पुत्री मेले की सजावट देखने के लिए आई...
.!
जिनका नाम
बाईसा किरणदेवी था....!
जिनका विवाह बीकानेर के पृथ्वीराज जी से हुआ था!
बाईसा किरणदेवी की सुंदरता को देखकर अकबर अपने आप पर क़ाबू नहीं रख पाया....
और
उसने बिना सोचे समझे दासियों के माध्यम से धोखे से ज़नाना महल में बुला लिया....!
जैसे ही अकबर ने बाईसा किरणदेवी को
Read 7 tweets
3 Jan
अरे ओ ट्वेंटी ट्वेंटी (2020)
तेरी टाय टाय…
तूने बड़ी मचाई काई काई…
तू आया क्यों भाई…why…why?
ए…ट्वेंटी ट्वेंटी करके तेरी हाय…हाय…
हम बोलेंगे तुझको बाय बाय…
ए भाई…भाई…
तू कोरोना लेकर आया…
तूने मास्क पहनाया…हमने मुंह को छुपाया…
तूने घर में बिठाया
अच्छी खासी जिंदगी को तूने कैद बनाया
हमने रिश्तेदारों को गंवाया…
प्यारे प्यारे कलाकारों को भी गंवाया…
ट्वेंटी ट्वेंटी करके तेरी हाय हाय…
हम बोलेंगे तुझको बाय बाय… बाय बाय.…
अरे एक से एक
तूफानों की लाइन लगाई
तिडो ने भी कर दी चढ़ाई…
रोज रोज मंदी से लड़ाई…
नौकरी में हुई छटाई…
हाय हाय…
अरे ऑनलाइन ऑनलाइन करके ट्रेन और बस की लाइन भुलाई…
घर में बैठे बैठे हो गई पढ़ाई…
अरे घर में बात बात में हो जाती है लड़ाई…
हाय हाय…
ट्वेंटी ट्वेंटी करके तेरी हाय हाय…
हम बोलेंगे तुझको बाय बाय… बाय बाय…
अरे तूने कैसी बैंड बजाई…
न घर में आती कोई बाई…
Read 6 tweets
28 Dec 20
अपना इतिहास जानें:-

चंद व्यापारी आये थे।
सूखे मेवे लाये थे।

करने को आये व्यापार।
भा गया भारत का बाज़ार।

इतनी स्मृद्धि, शिष्टाचार।
शुद्ध थे सबके आचार, विचार।

लौट व्यापारी घर को गए।
सोने की चिड़िया देखी, दंग रह गए।

मन में लालच आन समाई।
लुटेरों की इक सेना बनाई।

दस हज़ार भी ना थे सारे।
पर खूंखार, जलन के मारे।

छोटे छोटे राज्यों को लूटा।
उनका कहर भारत पर टूटा।

राजाओं में नहीं था एका।
मुग़लों नें फिर पासा फेंका।

आपसी फूट का लाभ उठाया।
छोटों, बड़ों को ग़ुलाम बनाया।

मुग़लों नें
था आतंक ढाया।
अबलाओं को बहुत सताया।

"बन जाओ तुम मुसलमान।
नहीं तो जाएगी सबकी जान।"

शिवालय तोड़े, मन्दिर तोड़े।
हिन्दू समाज पर बरसे कोड़े।

धीरे धीरे धरम मिटाया।
कमज़ोरों का किया सफाया।

मारा पीटा, भय दिखलाया।
जबरन उनको मुसल्ला बनाया।

राणा प्रताप,
Read 11 tweets
27 Dec 20
1. दो गोली लगने के बाद गांधी ने ‘हे राम’ कहा था ? सफेद झूठ

गोली लगने के बाद गाँधी के मुँह से कुछ नहीं निकला था

2. नेहरू बच्चों से बहुत प्यार करते थे ? महाझूठ

नेहरू बच्चों से नहीं बल्कि महिलाओं से बहुत प्यार करते थे, खासकर विदेशी महिलाओं
से

3. दे दी हमें आजादी बिना खड्ग बिना ढाल ? एकदम बकवास

1857 में भारतीयों ने आज़ादी की लड़ाई की शुरुवात की थी, 1947 तक 7 लाख 32 हज़ार भारतीयों ने बलिदान दिया तब आज़ादी आयी

4. ए मेरे वतन के लोगो सुनकर नेहरू रो दिए थे? एकदम झूठ

नेहरू ने भारत के हथियारों के कल कारखाने बंद
करवाए, चीन को ताकतवर बनवाया, परमाणु शक्ति बनवाया, और संसद में भी 1962 के बाद नेहरू ने बयान दिया की, क्या हो गया मानसरोवर गया तो, वो तो बंजर भूमि थी, घांस का एक तिनका भी नहीं उगता था

5. अकबर महान था ? महाझूठ

अकबर एक विदेशी आतंकवादी था, एक पूर्ण हवसी था, और महाराणा प्रताप
Read 8 tweets
21 Dec 20
१. हिन्दुस्तान, इंडिया या भारत का असली नाम - आर्यावर्त्त, फिर भारतवर्ष !
२. कानपुर का असली नाम - कान्हापुर !
३. दिल्ली का असली नाम - इन्द्रप्रस्थ !
४. हैदराबाद का असली नाम - भाग्यनगर !
५. इलाहाबाद का असली नाम -
प्रयाग !
६. औरंगाबाद का असली नाम - संभाजी नगर !
७. भोपाल का असली नाम - भोजपाल !
८. लखनऊ का असली नाम - लक्ष्मणपुरी !
९. अहमदाबाद का असली नाम - कर्णावती !
१०. फैजाबाद का असली नाम - अवध !
११. अलीगढ़ का असली नाम - हरिगढ़ !
१२. मिराज का असली नाम - शिव प्रदेश !
१३. मुजफ्फरनगर का असली
नाम - लक्ष्मी नगर !
१४. शामली का असली नाम - श्यामली !
१५. रोहतक का असली नाम - रोहितासपुर !
१६. पोरबंदर का असली नाम - सुदामापुरी !
१७. पटना का असली नाम - पाटलीपुत्र !
१८. नांदेड का असली नाम - नंदीग्राम !
१९. आजमगढ का असली नाम - आर्यगढ़ !
२०. अजमेर का असली नाम - अजयमेरु !
२१.
Read 6 tweets
17 Dec 20
विवाह के समय समाज के सबसे निचले पायदान पर खड़े *दलित* को जोड़ते हुये अनिवार्य किया कि *दलित* स्त्री द्वारा बनाये गये चुल्हे पर ही सभी शुभाशुभ कार्य होगें। इस तरह सबसे पहले *दलित* को जोडा गया । *धोबी* के द्वारा दिये गये जल से ही
कन्या सुहागन रहेगी इस तरह धोबी को जोड़ा।
*कुम्हार* द्वारा दिये गये मिट्टी के कलश पर ही देवताओ के पुजन होगें यह कहते हुये कुम्हार को जोडा।
*मुसहर जाति* जो वृक्ष के पत्तों से पत्तल/दोनिया बनाते है यह कहते हुये जोड़ा कि इन्हीं के बनाए गये पत्तल/दोनीयों से देवताओं का पूजन
सम्पन्न होंगे।
*कहार* जो जल भरते थे यह कहते हुए जोड़ा कि इन्हीं के द्वारा दिये गये जल से देवताओं के पुजन होगें।
*बिश्वकर्मा* जो लकड़ी के कार्य करते थे यह कहते हुये जोड़ा कि इनके द्वारा बनाये गये आसन/चौकी पर ही बैठकर वर-वधू देवताओं का पुजन करेंगे।

*धारीकार* जो डाल और मौरी को
Read 8 tweets
26 Nov 20
*जब तक भाजपा वाजपेयीजी की विचारधारा पर चलती रही, वो राम के बताये मार्ग पर चलती रही
। मर्यादा, नैतिकता, शुचिता इनके लिए कड़े मापदंड तय किये गये थे। परन्तु कभी भी पूर्ण बहुमत हासिल नहीं कर सकी!*

*जहाँ करोड़ों रुपये के घोटाले-घपले करने के बाद भी, कांग्रेस बेशर्मी से अपने लोगों का बचाव करती रही, वहीं पार्टी फण्ड के लिए मात्र एक लाख रुपये ले लेने पर भाजपा ने
अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष बंगारू लक्षमण जी को हटाने में तनिक भी विलंब नहीं किया!*

*परन्तु चुनावों में नतीजा?*

*वही ढाक के तीन पात...*

*झूठे ताबूत घोटाला के आरोप पर तत्कालीन रक्षामंत्री जार्ज फर्नांडिस का इस्तीफा, परन्तु चुनावों में नतीजा??*

*वही ढाक के तीन पात...*
Read 18 tweets
25 Nov 20
जिस आदमी ने श्रीमदभगवद गीता का पहला उर्दू अनुवाद किया वो था मोहम्मद मेहरुल्लाह!
बाद में उसने सनातन धर्म अपना लिया!

पहला व्यक्ति जिसने श्रीमदभागवद गीता का अरबी अनुवाद किया वो एक फिलिस्तीनी था अल फतेह कमांडो नाम का!
जिसने बाद में जर्मनी में इस्कॉन जॉइन किया और अब हिंदुत्व में है!
पहला व्यक्ति जिसने इंग्लिश अनुवाद किया उसका नाम चार्ल्स विलिक्नोस था!
ईसने भी बाद में हिन्दू धर्म अपना लिया उसका तो ये तक कहना था कि दुनिया मे केवल हिंदुत्व बचेगा!

हिब्रू में अनुवाद करने वाला व्यक्ति Bezashition le fanah नाम का इसरायली था जिसने बाद में हिंदुत्व अपना लिया था
भारत मे आकर!

पहला व्यक्ति जिसने रूसी भाषा मे अनुवाद किया उसका नाम था नोविकोव जो बाद में भगवान कृष्ण का भक्त बन गया था!

आज तक 283 बुद्धिमानों ने श्रीमद भगवद गीता का अनुवाद किया है अलग अलग भाषाओं में जिनमें से 58 बंगाली, 44 अंग्रेजी, 12 जर्मन, 4 रूसी, 4 फ्रेंच, 13 स्पेनिश, 5
Read 5 tweets
24 Nov 20
*इतिहास की एक दुर्घटना:*

*1920 में अचानक भारत की तमाम मस्जिदों से दो पुस्तकें वितरित की जाने लगी! एक पुस्तक का नाम था “कृष्ण तेरी गीता जलानी पड़ेगी", और दूसरी पुस्तक का नाम था "उन्नीसवीं सदी का लंपट महर्षि"! ये दोनों पुस्तकें "अनाम" थीं! इसमें किसी लेखक या प्रकाशक का नाम नहीं
था, और इन दोनों पुस्तकों में भगवान श्री कृष्ण, हिंदू धर्म, इत्यादि पर बेहद अश्लील, बेहद घिनौनी बातें लिखी गई थीं!*

*और इन पुस्तकों में तमाम देवी-देवताओं के बेहद अश्लील रेखाचित्र भी बनाए गए थे!*

*और धीरे-धीरे, ये दोनों पुस्तकों को भारत की हर एक मस्जिद में से वितरित की जाने लगीं!
*

*यह बात जब गांधी तक पहुंची, तो गांधी ने इसे "अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता" की बात बता कर, गौण कर दिया, और कहा भारत में सब को अपनी बात रखने का हक है!*

*लेकिन इन दोनों पुस्तकों से, भारत का जनमानस बहुत उबल रहा था!*

*फिर 1923 में लाहौर स्थित "राजपाल प्रकाशक" के मालिक "महाशय राजपाल
Read 15 tweets
19 Nov 20
मित्रो आप सब ने #महाराणा_प्रताप के घोड़े #चेतक के बारे
में तो सुना ही होगा,
लेकिन उनका एक हाथी
भी था।जिसका नाम था #रामप्रसाद
उसके बारे में आपको कुछ बाते बताता हुँ।
रामप्रसाद हाथी का उल्लेख
अल-बदायुनी,जो मुगलों
की ओर से हल्दीघाटी के
युद्ध में लड़ा था ने अपने एक ग्रन्थ में किया
है,वो लिखता है की जब #महाराणा_प्रताप पर अकबर ने चढाई की
थी तब उसने दो चीजो को
ही बंदी बनाने की मांग की
थी एक तो खुद महाराणा
और दूसरा उनका #हाथी_रामप्रसाद,आगे अल बदायुनी लिखता है
की वो हाथी इतना समझदार
व ताकतवर था की उसने
हल्दीघाटी के युद्ध में अकेले ही
अकबर के 13 हाथियों को मार
गिराया था

वो आगे लिखता है कि
उस हाथी को पकड़ने के लिए
हमने 7 बड़े हाथियों का एक
चक्रव्यूह बनाया और उन पर
14 महावतो को बिठाया तब
कहीं जाकर उसे बंदी बना पाये।

अब सुनिए एक भारतीय
जानवर की स्वामी भक्ति।

उस हाथी को अकबर के समक्ष
पेश किया गया जहा अकबर ने
उसका नाम #पीरप्रसाद रखा।
Read 5 tweets
18 Nov 20
🥺अब्दुल हमीद भी फर्जी निकला🥺

कोंग्रेस की घटिया करतूत का एक और हसीन पल 🤔
पढ़िये पूरा आंखे_खोल_देने_वाला #सच

1965 के युद्ध का झूठा इतिहास
ध्यान से और लगन से पढें. .
मुस्लिम सैनिकों की गहरी साजिश का खुलासा???

हमें इतिहास में पढाया गया कि अब्दुल हमीद ने पैटन टैंक
उड़ाए थे, जबकि ये सरासर झूठ है, और कांग्रेस का भारतीयों से एक और विश्वासघात है...!

हरियाणा निवासी भारतीय फौज के बहादुर सिपाही #चंद्रभान_साहू ने पैटन टैंक को उड़ाया था, ना कि किसी अब्दुल हमीद ने...!
परमवीर चक्र भी उसी #सैनिक_चंद्रभान_साहू ने जीता था ना कि किसी
#अब्दुल_हमीद ने...!

बात सन् 1965 के भारत-पाक युद्ध की है...
जब अमेरिका द्वारा प्राप्त अत्याधुनिक पैटन टैंकों के बूते पाकिस्तान अपनी जीत को पक्का मान रहा था, और भारतीय सेना इन टैंकों से निपटने के लिये चिंतित थी...
भारतीय सेना के सामने, भारतीय सेना ने ही एक मुसिबत खडी कर
Read 13 tweets
10 Nov 20
🔴 अलविदा अर्नब..! संभावना है कि अब #अर्नब को किसी भी स्थिति में जिंदा नहीं छोड़ा जाएगा क्योंकि यदि अर्नब जिंदा बच गया तो वह हिंदू विरोधी गैंग को जीने नहीं देगा। इसलिए उसको मारने के लिए पूरा ताना-बाना बुना जा चुका है और उसकी भविष्य में होने वाली हत्या को आत्महत्या का रूप देने की
कोशिश की जा रही है।

इस पूरे खेल में एनसीपी प्रमुख शरद पवार, कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी एवं सोनिया गांधी, अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम एंड गैंग के साथ भारत की भ्रष्ट न्यायपालिका की मुख्य भूमिका है।

कायर हिंदुओं, सरदार भगत सिंह की फांसी के लिए यदि तुम गांधी को दोषी बताते हो
तो तुमको आज ही इस बात का निर्णय करना होगा कि अर्णब गोस्वामी की होने वाली संभावित हत्या के लिए तुम भविष्य में किसको जिम्मेदार मानोगे?

नेताजी सुभाष चंद्र बोस, सरदार भगत सिंह, श्यामा प्रसाद मुखर्जी सहित सैकड़ों राष्ट्रवादियों की राजनैतिक हत्याओं के बाद अब तुम लोग अर्णब गोस्वामी
Read 4 tweets
10 Nov 20
*दुःखी आत्माओं की जानकारी के लिए...*
फरवरी 2007 में पाकिस्तान का *विदेशमंत्री खुर्शीद कसूरी* भारत दौरे पर आया था.उसने देश के सभी प्रमुख न्यूजचैनलों,विशेषकर अंग्रेज़ी न्यूजचैनलों को इंटरव्यू दिया था और पाकिस्तानी एजेंडे का जमकर प्रचार किया था.लेकिन एक इंटरव्यू ऐसा भी हुआ था जिसमें
गर्मागर्मी बहुत ज्यादा बढ़ गयी थी और नौबत हाथापाई की आ गयी थी.22 फ़रवरी 2007 को खुर्शीद कसूरी का वो इंटरव्यू अर्णब गोस्वामी ने लिया था.उस समय सभी लुटियनिया न्यूजचैनलों के साथ खुर्शीद कसूरी के इंटरव्यू बहुत मीठे मीठे सवालों के साथ बहुत सुखद और शांतिपूर्ण माहौल में हंसी खुशी संपन्न
हो गए थे.लेकिन अर्णब गोस्वामी को दिए गए इंटरव्यू में मौसम पूरी तरह बदल गया था.खुर्शीद कसूरी से अरनब गोस्वामी ने लुटियनिया दलालों की भांति मीठे मीठे सवाल नहीं पूछे थे.इसके बजाय तथ्यों तर्कों से लैस होकर अरनब गोस्वामी ने पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद और समझौता एक्सप्रेस बम विस्फोट से
Read 17 tweets