♎️ V-JAY (AURO's) ⚖️ Profile picture
Freelancer, Editor-Compositor-Graphics Designer. ♥/ 🌟If You Really Get To Know "YOURSELF", You Will Never Need Anyone Else To Make You "FEEL HAPPY"🌟🤗
Apr 30 4 tweets 2 min read
एक विशेष क्रम में सप्ताह के सात दिनों को रविवार, सोमवार... के रूप में क्यों चिह्नित किया जाता है?

एक सूर्योदय से दूसरे सूर्योदय तक दिन को 24 घंटों में बांटा गया है।
प्रत्येक घंटे/होरा पर 7 ग्रहों में से एक का शासन होता है।
#Week एक इटालियन कैमियो ब्रे जिस क्रम में वे शासित होते हैं वह है:
सूर्य, शुक्र, बुध, चंद्र, शनि, बृहस्पति, मंगल।
यह धरती के लिए अपनी औसत गति पर आधारित है।
अब, 7 घंटे के बाद वही क्रम 2 बार और दोहराया जाता है। 21 घंटे पूरा कर रहा है। बाकी 3 घंटे, वही क्रम दोहराया जाता है
Apr 30 4 tweets 2 min read
"श्री विद्यार्णवतंत्रम" में "हनुमथ प्रकर्णम" के अनुसार, हनुमान जी के पांच मुख (पंच मुख) और दस अस्त्र हैं। हनुमान जी एक महान योगी हैं, जिन्होंने पांच इंद्रियों (पंच इंद्रियों) को पार कर लिया है।
• पांच तत्वों में से एक (वायु) के पुत्र |
#JayatuSanatana #जयतुसनातन • पांच तत्वों में से एक (पानी) सागर को पार किया, पांच तत्वों में से एक (आकाश) के माध्यम से |
• पांच तत्वों में से एक (पृथ्वी) 'माता सीता' से जाकर मिले |
• पांच तत्वों में से एक (अग्नि) के उपयोग से लंका को जला दिया।
Apr 29 8 tweets 5 min read
क्या हमें महाभारत काल में ग्रहण का उल्लेख मिलता है?
हाँ…लेकिन कैसे ???

“पांडवों और कौरवों के बीच लड़ाई 18 दिनों तक चली।
महाभारत में इस संदर्भ में कहा गया है कि युद्ध के दौरान...
#महाभारत #पूर्णिमा और आने वाले पूर्ण #सूर्य_ग्रहण के बीच का अंतर सिर्फ 13 दिन था (कुरुक्षेत्र के क्षेत्र में ग्रहण देखा जाना था)
“महाभारत में, भगवान #कृष्ण सूर्य और चंद्र ग्रहण की खगोलीय घटनाओं से पूरी तरह परिचित थे। और उसने अपने ज्ञान का उपयोग #अर्जुन के पुत्र #अभिमन्यु के हत्यारे
Apr 29 4 tweets 3 min read
उनाकोटी (Unakoti) : भारत के एक राज्य, #त्रिपुरा की राजधानी #अगरतला से 178 KM दूर #उनाकोटी ज़िले के कैलाशहर उपखंड में स्थित एक ऐतिहासिक व पुरातत्विक हिन्दू तीर्थस्थल है। यहाँ भगवान शिव को समर्पित 99 लाख, 99 हज़ार, 999 मूर्तियाँ हैं |
#incredibleindia #incredibles Image जिनका निर्माण 7वीं – 9वीं शताब्दी ईसवी, या उस से भी पहले, बंगाल व पड़ोसी क्षेत्रों में पाल वंश के राजकाल में हुआ था | मूर्तियों की संख्या के आधार पर ही इस जगह का नाम "उनाकोटी" पड़ा क्योंकि यहाँ की भाषा के अनुसार 'कोटि' का मतलब होता है 'करोड़' और 'उना' का मतलब होता है 'एक कम' | Image
Apr 29 4 tweets 4 min read
Unakoti : It is a historical and archaeological Hindu pilgrimage center located in Kailashahar subdivision of #Unakoti district, 178KM away from #Agartala, capital of #Tripura, a state of India. There are 99lakh, 99 thousand, 999 idols dedicated to #LordShiva.
#incredibleindia Image Which were built in the 7th – 9th century AD, or even earlier, during the reign of the #Pala_dynasty in #Bengal and neighboring regions. On the basis of the number of idols, this place got the name "Unakoti" because Image
Apr 1 6 tweets 3 min read
आखिर देवता भी क्यों घबराते हैं"शनि देव"का नाम सुनकर ?
"शनि देव"के अन्य नाम-शनीश्वर,सौराष्ट्री,सूर्यपुत्र,श्यामाम्बर,सुवर्णा- नन्दन,काकध्वज,शनैश्चर आदि।
भारतीय ज्योतिष में"शनि देव" "नवग्रहों"में से एक, और"भगवान सूर्य"के"ज्येष्ठ पुत्र" हैं।
🙏🙏🙏 Image शनिदेव का जन्म-
"भगवान सूर्य" ने "देवशिल्पी विश्वकर्मा" की दो पुत्रियों से विवाह किया, उनके नाम थे- "सरण्यू" और "सुवर्णा"। एक बार "माता सुवर्णा" ने "भगवान शिव" की घोर तपस्या की, और उस तप में उन्होंने "अन्न-जल" का त्याग कर दिया था। Image